दर्द दूर करने के लिए मां ने किया मालिश, 23 साल के बेटे की मौत

img

यूपी किरण ब्यूरो

नई दिल्ली।। दर्द से छुटकारा पाने के लिए की गई मसाज जानलेवा हो सकती है। यहां एक ऐसा ही एक मामला सामने आया है। 23 साल के एक लड़के के पैर में बैडमिंटन खेलते वक्त चोट लग गई थी।

मां से दर्द से कराहते बेटे की तकलीफ नहीं देखी गई तो उन्होंने उसके पैर पर मसाज कर दी, लेकिन इससे उसकी जान चली गई। इस मामले में इस फैमिली का नाम उजागर नहीं किया है।

नस में जम गया था खून का थक्का

डॉक्टर्स के मुताबिक, लड़के की एड़ी में चोट लगी थी, जिसकी वजह से उसे डीप वेन थोम्बोसिस (डीवीटी) हो गया था। यह एक सीरियस कंडीशन है। इसमें डीप नस में खून का थक्का जम जाता है।

एम्स के डॉक्टरों ने इस लड़के का पोस्टमार्टम किया, इसके बाद यह मामला सामने आया है। यह केस मेडिको लीगल जरनल के लेटेस्ट एडिशन में भी छापा गया है।

पोस्टमार्ट में कन्फर्म हुआ की इस लड़के के पैर में 5×1 सेंटीमीटर का खून का थक्का था। यह मसाज की वजह से अपनी जगह से हट गया और लंग्स में पहुंच गया। इससे उसे सांस लेने में तकलीफ हुई और उसकी मौत हो गई।

प्लास्टर हटाने के बाद होने लगा था दर्द

डॉक्टरों ने बताया, लड़के को पिछले साल 15 सितंबर को बेडमिंटन खेलते वक्त बाईं एड़ी में चोट लगी थी। उसे प्लास्टर बांधा गया। 17 अक्टूबर को उसका प्लास्टर निकाल दिया गया और वह ठीक तरह से चलने लगा। बाद में लड़के को पैर में दर्द होने लगा और सूजन आ गई। टेस्ट में पता चला कि नस में खून का थक्का जम गया है।

एम्स के फोरेंसिक मेडिसन डिपार्टमेंट के एसोसिएट प्रोफेसर चितरंजन बेहरा के मुताबिक, “दर्द बढ़ा तो लड़के की मां ने उसके बाएं पैर की मसाज कर दी। इसके बाद लड़के को सीने में तेज दर्द हुआ। सांस फूलने लगी और वह वहीं गिर गया।”

डॉ. बेहरा ने बताया, लड़के को बेहोशी की हालत में एम्स के इमरजेंसी डिपार्टमेंट में 31 अक्टूबर को लाया गया था। सीपीआर (सीने को हाथों से पंप करना) किया गया, लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका।

फोटोः प्रतीकात्मक

Related News