ये है योगी के 100 दिन का विकास, इस बूचड़खाने में अब हर दिन कटेंगे 1000 जानवर

img

www.upkiran.org

यूपी किरण ब्यूरो

लखनऊ।। यूपी में योगी सरकार बनने के बाद अवैध बूचड़खानों को बंद करा रही थी। उस दिन से तो अवैध बूचड़खाने तो बंद हो गए लेकिन योगी सरकार में पहला सरकारी आधुनिक बूचड़खाना खोल दिया। जिसमें रोजाना 800 से 1000 जानवर काटे जाने की योजना है।

यूपी के बरेली में भारत का पहला अत्याधुनिक सरकारी बूचड़खाने में उत्पादन मंगलवार को शुरू हो गया। उसमें तैयार प्रोडक्ट अंतरराष्ट्रीय स्तर के होंगे।

मिली जानकारी के अनुसार यह स्लॉटर हाउस अत्याधुनिक तकनीक का है। इसमें तैयार होने वाला मीट अंतर्राष्ट्रीय स्तर के मानक पर खरा उतरेगा। यह स्लॉटर हाउस पीपीपी मॉडल पर तैयार हुआ है इसका संचालन मारिया फ्रोज़न एग्रो फूड प्रोडक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड करेगा।

पीपीपी मॉडल के तहत 60 करोड़ में तैयार स्लॉटर हाउस के उदघाटन समारोह के अवसर पर मारिया फ्रोजन एग्रो फूड प्रोडक्ट प्राइवेट लिमिटेड के चेयरमैन हाजी शकील कुरैशी ने बताया कि स्लॉटर हाउस में दुनिया की अत्याधुनिक तकनीकी की मशीने लगाई गई हैं।

इसके निर्माण में सरकार से मिलने वाली 15 करोड़ की सहायता नहीं ली गई, स्लॉटर हाउस की स्थापना का पूरा खर्चा मारिया फ्रोज़न ने उठाया है।

स्लॉटर हाउस का मीट सऊदी, वियतनाम, अल्जीरिया सहित आधा दर्जन से अधिक देशों में सप्लाई होगा। आप के बता दे कि प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से यह प्रोजेक्ट साढ़े 300 से 400 करोड रुपए का टर्न ओवर होगा।

यह प्रोजेक्ट पीपीपी मॉडल पर होने के कारण मारिया फ्रोज़न प्रतिवर्ष नगर निगम को तीन करोड़ रुपया देगा। इसके अलावा विदेशों में सप्लाई के लिए अलग से लगभग 800 -1000 जानवर काटने की योजना है।

प्रत्यक्ष रूप से एक हजार से 1500 लोगों को रोजगार मिलेगा। साथ ही लगभग दस हजार लोगों को अप्रत्यक्ष रूप में रोजगार मिलेगा। उन्होंने इसे देश का सरकारी सबसे अच्छा मॉडर्न स्लाटर हाउस बताया।

साथ ही चीफ वेटरनरी अफसर विनोद कुमार ने कहा कि जानवर के कटने से पूर्व सरकारी वेटनरी डाक्टर स्वस्थ परीक्षण करेंगे। वेटनरी डाक्टर के प्रमाण पात्र के बाद ही जीवा बॉक्स में जानवर काटने को जायेगा। यहां तैयार मीट की पैकिंग से पूर्व लैब में जांच होगी और जांच के उपरांत ही विदेशों में जाने वाला मीट की पैकिंग होगी।

फोटोः फाइल

इसे भी पढ़ें

http://upkiran.org/5120

http://upkiran.org/5117

Related News