योगी सरकार के भ्रष्ट अफसरों ने करवाई IAS अनुराग तिवारी की हत्या

img

लखनऊ ।। आईएएस अधिकारी अनुराग तिवारी के पिता ने खुलकर कहा है कि उनके बेटे की हत्या की गई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी गला दबाकर हत्या किए जाने की पुष्टि हुई है।

फफकते हुए अनुराग तिवारी के पिता ने बताया, बेटा नागवार में फूड कमिश्नर के पद पर तैनात था। बेहद ईमानदार छवि थी। भ्रष्ट अफसर त्रस्त थे। उन्होंने ही बेटे की हत्या करवाई है। उसकी ईमानदार छवि से भ्रष्ट अधिकारी ईर्ष्या रखते थे। कई बार यह बात अनुराग ने अपने मुंह से बताई थी। ईमानदारी के चलते ही उसकी हत्या करवाई गई है। इसकी जांच होनी चाहिए।
बीटेक भी पास था अनुराग

बहराइच के मोहल्ला काननूगोपुरा निवासी आईएएस अनुराग तिवारी का शव बुधवार सुबह लखनऊ में सड़क पर मिला। आज उनका जन्मदिन भी था। घर में महामृत्युंजय जाप व पूजा अर्चना की तैयारी चल रही थी। उसी समय बेटे के मौत की खबर माता-पिता को मिली तो परिवार में कोहराम मच गया।

बुधवार 17 मई को अनुराग का जन्मदिन था, जिसके चलते वह नागवार से मंगलवार को लखनऊ पहुंचे। यहां पर उनके मित्र एलडीए के वाइस चेयरमैन पीएन सिंह ने अनुराग के ठहरने के लिए मीराबाई गेस्ट हाउस में कमरा नंबर 19 बुक करवाया। मार्निंग वाक के लिए अनुराग निकले, लेकिन वापस नहीं लौटे।

अनुराग के पिता डॉ. बीएन तिवारी का कहना है कि बहू अरुणिमा से सौहार्दपूर्ण माहौल में तलाक हो गया था। उसका कोई विवाद नहीं था। बेटा ईमानदार छवि का था।

आईएएस के रूप में चयन होने के बाद उसने मधुगिरि के सहायक आयुक्त, कोडागु के उपायुक्त और बंगलुरू में उप सचिव वित्त के रूप में सेवा की है। इस समय में बंगलुरू में फूड सिविल सप्लाइज एंड कंज्यूमर्स अफेयर्स डिपार्टमेंट में कमिश्नर के पद पर तैनात था।

Related News