हत्या के आरोपियों को बरी करने पर पीड़ित ने उठाया जूता और… तो उठने लगे ये सवाल !

img

www.upkiran.org

दिल्ली।। साकेत अदालत परिसर आज एक ऐसी घटना घट गयी जिसने एक बार फिर न्यायालयों की सुरक्षा व्यवस्था की पोल खोलकर रख दी है।यहाँ हत्या के एक कथित मामले में दो आरोपियों को दोषमुक्त करार दिए जाने से नाराज एक व्यक्ति ने न्यायाधीश पर ही जूता फेंक दिया।

अदालत के एक अधिकारी ने अपनी पहचान गुप्त रखने की शर्त पर बताया कि अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश लोकेश शर्मा पर पीड़ित परिवार के एक शख्स ने पर जूता उछाल दिया।ये घटना तब हुई जब ये न्यायाधीश किसी अन्य मामले की सुनवाई कर रहे थे। हालाँकि न्यायाधीश को जूता लगा नहीं लेकिन इस घटना न्यायालय परिसर में सुरक्षा की पोल खोल दी।

आरोपी 34 वर्षीय मनोज कुमार को तुरंत गिरफ्तार कर लिया और आईपीसी की धारा-186 ( लोक सेवक को सार्वजनिक कामकाज के निर्वहन में बाधा डालना) , वा धारा -353 (लोक-सेवक को उसकी ड्यूटी से रोकने के लिए हमला या आपराधिक बल का इस्तेमाल ) के तहत साकेत थाने में मामला दर्ज करके पुलिस ने अपनी कार्यवाही शुरू कर दी।

जानकारी के मनोज हत्या मामले में पीड़ित व्यक्ति का चचेरा भाई है। न्यायाधीश ने 11 अगस्त को मामले में लापरवाही से जांच के लिए पुलिस को फटकार लगाने के बाद दो आरोपियों को बरी कर दिया था।

Related News