चीन को सबक सिखाने के लिए अमेरिका ने तैनात किया ये घातक हथियार, ड्रैगन के पास नहीं है इसका हल

दुश्मन मुल्क चीन वर्तमान अपने पड़ोसी मुल्कों के विरूद्ध विस्‍तारवादी नीति अपनाए हुए हैं।

बीजिंग॥ दुश्मन मुल्क चीन वर्तमान अपने पड़ोसी मुल्कों के विरूद्ध विस्‍तारवादी नीति अपनाए हुए हैं। ऐसे में चीन के जंगी बेड़े को खत्म करने के लिए अमेरिका ने खतरनाक प्लान बनाया है। हिंदुस्तान-प्रशांत क्षेत्र में ड्रैगन को मुहंतोड़ जवाब देने के लिए पेंटागन ने अब तक का सबसे महत्वकांक्षी “Future Forward” प्लान बनाया है, जिसका उद्देश्य चीन के विरूद्ध मानवरहित विमान लड़ेंगे।

China US

पेंटागन की इस माह की शुरुआत में आई रिपोर्ट के बाद चीन की मजबूत नेवी को काउंटर करने के लिए रक्षा मंत्री मार्क एस्पर ने बुधवार को ऐलान किया। समंदर में “Future Forward” प्लान से हिंदुस्तान-प्रशांत क्षेत्र में चीन पर नकेल कसी जाएगी। अमेरिका अब पानी में चीन की सैन्य घेरेबंदी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के ज़रिए करेगा।

संयुक्त राज्य रक्षा विभाग चाहता है कि 2045 तक ऐसे विमान बनाए जाएं जो मानव रहित हों तथा समुद्रों में गश्त करने में सक्षम हो। वित्त वर्ष 2021 के लिए पेंटागन ने यूएस नेवी के लिए 207 बिलियन डॉलर का आवन्टन किया है, जिसमें 4 बिलियन डॉलर नए युद्धपोतों के निर्माण के लिए आवंटित किया जा सकता है।

संयुक्त राज्य रक्षा विभाग ने कहा कि यूएसए को खास रूप से समुद्र में चीनी सेना की अस्थिर गतिविधियों से सामना करना पड़ा। यूएसए को किसी भी संघर्ष को रोकने के लिए तैयार होना चाहिए। यूएसए ने वर्तमान 293 की तुलना में अगले 10 सालों में कुल 355 युद्धपोत प्राप्त करने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

आपको बता दें कि चीन को उसके घर यानी कि हिंदुस्तान-प्रशांत क्षेत्र में काबू किया जाएगा। इस क्षेत्र को अमेरिका ने युद्ध का अपना “priority theater” बनाया, जहां पावर कम्पटीशन में ड्रैगन को पछाड़ा जाएगा।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *