इस जगह पर निकल गई चीन की हेकड़ी, गोली चलाने से पहले सोचेगा 100 बार

बीजिंग॥ यूएस अथवा भारत के साथ बढ़ते तनाव के बीच, चीन ने अपने फौजियों को निर्देश दिया है कि वे अमेरिकी सैनिकों के साथ गतिरोध में पहले गोली न चलाएं। क्योंकि बीजिंग दक्षिण चीन सागर में अमेरिका के साथ तनाव बढ़ाता हुआ दिख रहा है।

CHINA 25

दक्षिण चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने सूत्रों के हवाला से बताया है कि साउथ चीन सागर में चीन के दावों को खारिज करने वाले अमेरिका के साथ हाल के दिनों में दोनों देशों के बीच रिश्ते खराब हुए हैं। दोनों देशों ने हांगकांग और शिनजियांग में मानवाधिकारों के हनन पर भी कटाक्ष किया है।

मीडिया आउटलेट ने सूत्रों का हवाला देते हुए बताया कि बीजिंग ने पायलटों और नौसेना अधिकारियों को अमेरिकी विमानों और युद्धपोतों के साथ लगातार गतिरोध में संयम बरतने का आदेश दिया था। बीते महीने, दो अमेरिकी विमान वाहक पोत यूएसएस रोनाल्ड रीगन और यूएसएस निमित्ज कैरियर स्ट्राइक फोर्स ने साउथ चीन सागर में संचालन किया।

निमित्ज़ और रोनाल्ड रीगन स्ट्राइक समूहों ने एक सभी-डोमेन वातावरण में युद्ध की तत्परता और प्रवीणता को मजबूत करने के लिए कई अभ्यास और संचालन किए। एकीकृत अभियानों में वायु रक्षा अभ्यास, सामरिक युद्धाभ्यास अभ्यास, लंबी दूरी की समुद्री हड़ताल परिदृश्यों का मुकाबला और मुकाबला तत्परता और समुद्री श्रेष्ठता बनाए रखने के लिए समन्वित वायु और सतह अभ्यास शामिल हैं।

साउथ चीन मॉर्निंग पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक, यूएसए वाहक हड़ताल समूहों को पेपर टाइगर के रूप में खारिज करने के बावजूद, सूत्रों ने कहा कि पीएलए आकस्मिक संघर्षों से सावधान था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close