चिंता बढ़ी : इन चीजों पर 28 दिनों तक जिंदा रहता है कोरोना वायरस!

सीएसआईआरओ का कहना है कि एक नियंत्रित वातावरण में कोरोना वायरस ज्यादा समय तक संक्रमित रहता है। ये स्टडी वायरोलॉजी जर्नल में प्रकाशित की गई है। 

नयी दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया की नेशनल साइंस एजेंसी सीएसआईआरओ (CSIRO) ने कोरोना वायरस को लेकर एक चौंकाने वाला दावा किया है। इस दावे से लोगों की चिंताएं बढ़ गई हैं। सीएसआईआरओ का कहना है कि एक नियंत्रित वातावरण में कोरोना वायरस ज्यादा समय तक संक्रमित रहता है। ये स्टडी वायरोलॉजी जर्नल में प्रकाशित की गई है।

सीएसआईआरओ के शोधकर्ताओं ने पाया कि 20 डिग्री सेल्सियस (68 डिग्री फ़ारेनहाइट) पर SARS-COV-2 वायरस मोबाइल फोन स्क्रीन, नोट्स और कांच जैसी चिकनी सतहों पर 28 दिनों तक संक्रामक रहता है। इसकी तुलना में इन्फ्लुएंजा ए वायरस सतह पर 17 दिनों तक जिंदा रहता है।

स्टडी के प्रमुख शोधकर्ता शेन रिडेल ने कहा, ‘ये स्टडी वास्तव में हाथ धोने, सेनेटाइजिंग और वायरस के संपर्क में आए सतह को साफ रखने के महत्व को और बढ़ाती है। इसके लिए सतह पर कोरोना वायरस के मरीजों के सूखे हुए बलगम के सैंपल की तरह कृत्रिम बलगम पर स्टडी की गई, जिसमें ये एक महीने के बाद वायरस से मुक्त पाए गए।

20, 30 और 40 डिग्री सेल्सियस पर किए गए प्रयोगों से पता चला कि ये वायरस ठंडे तापमान पर लंबे समय तक जिंदा रहता है। असमान सतह की तुलना में चिकनी सतह और प्लास्टिक बैंकनोट्स की तुलना में पेपर नोट पर वायरस लंबे समय तक जिंदा रहता है। पराबैंगनी प्रकाश के प्रभाव को दूर करने के लिए ये सभी प्रयोग अंधेरे में किए गए थे, क्योंकि शोध से पता चला है कि सीधी धूप इस वायरस को मार सकती है।

शोधकर्ताओं ने कहा कि शरीर के तरल पदार्थों में पाया जाने वाला प्रोटीन और वसा भी बॉडी में वायरस की समयसीमा को बढ़ा सकते हैं। इस स्टडी से मीट पैकिंग फैसिलिटी जैसे ठंडे वातावरण और वायरस की अनुकूलता को समझने में मदद मिल सकती है। हालांकि अन्य देशों की तुलना में ऑस्ट्रेलिया ने कोरोना वायरस पर अच्छा नियंत्रण किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *