DM से बाबू ने कहा पैसे देना हो तो दो नहीं तो भागो !

img

www.upkiran.org

यूपी किरण ब्यूरो

लखनऊ।। जनता को सस्ती व अच्छी स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराने के लिए सरकरा द्वारा नितनए प्रयास किए जा रहे है। लेकिन स्वास्थ्य विभाग व उनके कर्मचारी अधिकारी सरकार की मंशा पर पानी फेर रहे है। जिससे सरकार की खिल्ली तो उड़ती ही है और मरीजों को भी इसका खामिआजा भुगतना पड़ता है।

सीएम योगी जा रहे हैं दिल्ली, वह दे सकते हैं इस्तीफा

अभी दो दिन पहले गाजीपुर जिले में एक व्यक्ति अपनी बच्चे के शव को कंधें पर लेकर अस्पताल में दर-दर भटक रहा था कि आज ताजा मामला लखीमपुर जिले से सामने आया है। जहां पर जिलाधिकारी महोदय ने स्वास्थ्य सुविधाओं का हाल जानने के लिए स्वंय एक गरीब किसान बनकर पहुंचे।

पिता ने कहा नेक करने जा रहा हूं, तो बेटे ने कर दी सरेआम हत्या

मामला यूपी के लखीमपुर का है। यहां के डीएम आकाशदीप सिर पर गमछा, पसीने से तर-बतर चेहरा और एकदम परेशान आदमी की शक्ल लेकर पैदल ही अस्पताल पहुँचे। यहाँ तैनात बाबू से बोले साहब ब्लड चाहिए और फिर बाबू ने जो जवाब दिया उससे डीएम के ही होश उड़ गए।

योगी जी मेरी जान बचा लीजिए, तीसरी बार एबॉर्शन करवा रहा है ये युवक

तब डीएम आकाशदीप को एहसास हुआ कि कैसे अस्पताल में ग़रीब मरीज़ों का पैसा घूस के नाम पर चूसा जाता है।

अब MOBILE नहीं होगा डिस्चार्ज ,चलते-चलते हो जायेगा चार्ज

डीएम आकाशदीप ने कहा, साहब हमारे मरीज़ को ख़ून चाहिए। बाबू ने कहा कि बिना पैसा दिए कुछ नहीं होने वाला। कई बार डीएम बोले मगर बाबू ने कहा कि पैसा देना हो दो नहीं तो भागो। इस पर डीएम ने चेहरे से गमछा उतार लिया। फिर बोले कि मुझे पहचानते नहीं। बाबू ने कहा मैं क्यों पहचानूँगा तुझे तभी डीएम के स्टेनो ने आकर परिचय दिया तो बाबू की बत्ती गुल हो गई।

यहां भगवान के प्रसाद भी दो कड़ाहों में बनते हैं, एक दलितों के लिए और एक सवर्णों के लिए

खबर के मुताबिक डीएम ने स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी से कहा कि क्या तुम जिलाधिकारी को नहीं पहचानते। स्टोनो के इतना कहते ही कर्मचारी के हाथ-पांव फूल गये। इसके बाद डीएम ने सीएमओ और सीएमएस को बुलाया और ब्लड बैंक के कर्मचारी के खिलाफ विभागीय कार्यवाही करने का आदेश देते हुये अन्य कर्मचारियों को चेतावनी दी।

फोटोः फाइल

इसे भी पढ़ें

http://upkiran.org/5807

 

 

 

 

Related News