मध्य प्रदेश की डॉगी रश्मि इस राज्य में बनकर आई बहु, जानें क्या है पूरा मामला

टीकमगढ़ : अब तक आपने काम, मन्नत और मनोकामनाएं पूरी करने के तमाम धार्मिक कर्मकांडों के बारे में तो सुना ही होगा. लेकिन, मध्य प्रदेश के निवाड़ी जिले से एक ऐसी खबर सामने आई है, जहां ग्रामीणों ने इंद्रदेव को मनाने के लिए एक अनोखी रस्म निभाई. दरअसल, जिले के पुच्छिकरगुवा गांव में लोगों ने गांव की खुशहाली के लिए दो मूक जानवरों की शादी करा दी. यहां हिंदू रीति-रिवाजों से कुत्ते गोलू और रश्मि की शादी बड़े धूमधाम से की गई। इस दौरान 800 लोगों को दावत भी दी गई.

Villagers Married Dog

पीने के पानी की समस्या को दूर करने के लिए किया विवाह
दरअसल, गांव में पीने के पानी की समस्या के चलते लोगों ने मन बना लिया कि भगवान इंद्रदेव को प्रसन्न करते हैं. इसके लिए अगर दो मूक जानवरों की शादी हो जाए तो शायद भगवान की कृपा होगी और बारिश होगी। जिससे गांव में पेयजल की समस्या का समाधान हो जाएगा।

जुलूस का स्वागत धूमधाम से किया गया
बता दें, इस शादी में बारात बड़ी धूमधाम, बैंड-बाजे और आतिशबाजी के साथ पुछीकारगुआ बारात पहुंची. जहां हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार जयमाला कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इसके बाद जुलूस का भी भव्य स्वागत किया गया।

डॉगी रश्मि की ससुराल उत्तर प्रदेश
निवाड़ी जिले के ग्राम पुछीकारगुआ निवासी मूलचंद नायक ने उत्तर प्रदेश के बक्वा खुर्द निवासी अशोक यादव के गोलू नाम के कुत्ते से हिंदू रीति रिवाज से अपनी कुतिया रश्मि का विवाह करा दिया. इसके साथ ही मूलचंद नायक और उनके परिवार ने कुतिया रश्मि को नम आंखों से विदाई दी।

दोनों परिवारों की रजामंदी से शादी
कुत्ते के मालिक अशोक यादव ने बताया कि गांव में पेयजल की समस्या विकराल बनी हुई है. मूलचंद्र नायक और अशोक यादव दोनों के सहमत होने के बाद शादी को अंजाम दिया गया। साथ ही ग्रामीणों ने भगवान से प्रार्थना की कि गांव में समृद्धि लौट आए और पेयजल की समस्या से निजात मिले. आपको बता दें कि यहां पीने के पानी के लिए महिलाओं को पानी भरने के लिए घंटों लाइन में लगना पड़ता है. इसी वजह से उसकी शादी मध्य प्रदेश की एक कुतिया से कर दी गई। ताकि भगवान अन्य राज्यों से प्रसन्न होकर गांव में व्याप्त पेयजल की समस्या से निजात दिला सकें.