अगर आपके घर के बाहर कोई कुत्ता रोता या भौंकता है, तो इस संकेत को तुरंत समझ लें नहीं तो…

नई दिल्ली: हिंदू धर्म में बहुत सी बातें बताई गई हैं और इस लिस्ट में कुछ चीजों को शुभ और कुछ को अशुभ माना गया है. जी हां और इन्हीं अशुभ चीजों में से एक है रात में कुत्ते का रोना। जी दरअसल आपने अक्सर देखा होगा कि रात के समय घर के बाहर कुत्तों के भौंकने की आवाज सुनाई देती है (कुत्ते का रोना अशुभ होता है).

जी हाँ और इस दौरान उन्हें कई बार लोगों द्वारा हटा दिया जाता है, ताकि उनका रोना न सुना जा सके. ऐसा इसलिए क्योंकि घर के बड़े-बुजुर्ग कहते हैं कि यह अपशकुन का संकेत है। जी हां, और रोने की ये आवाजें अशुभ अशुभ संकेतों की ओर इशारा करती हैं। दरअसल, प्राचीन मान्यताओं में कुत्ते का रोना अशुभ माना जाता है। ऐसे में सवाल आता है कि कुत्ते अक्सर रात में ही क्यों रोते हैं और इसके पीछे की असली वजह क्या है? अब हम आपको इसके बारे में बताते हैं।

जी हां, रात में कुत्ते के भौंकने के पीछे एक कारण यह भी होता है कि ये रात में किसी अप्रिय घटना का संकेत देते हैं। दरअसल, कुत्ते भले ही रात में या दिन में दोनों समय रोते हों, लेकिन उनका रोना शुभ नहीं होता है। इसके साथ ही यह भी माना जाता है कि अगर घर का पालतू कुत्ता रोने लगे या उसकी आंखों से आंसू आ रहे हों, या वह खाना-पीना बंद कर दे, तो भी इसका मतलब है कि घर में संकट आने वाला है। वह आपको इस तरह से संकेत करता है।

इसके साथ ही ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुत्ते रात में इसलिए रोते हैं क्योंकि उन्हें पास में पितरों या आत्माएं दिखाई देती हैं। उन्हें देखकर वह रोने लगता है। दरअसल ऐसा माना जाता है कि कुत्ते की सोचने की शक्ति बहुत तेज होती है, इसलिए वह इन बातों को जल्दी भांप लेता है। एक मान्यता यह भी है कि कुत्ते तभी रोते हैं जब उन्हें अपने बाकी साथियों को संदेश देना होता है। इस खास आवाज के जरिए वे कई बार अपने बाकी साथियों को अपनी लोकेशन बता देते हैं ताकि उन तक आसानी से पहुंच सकें।