अगर आप भी रहना चाहते हैं सेहतमंद तो अभी से आचार्य चाणक्य की ये बातें मान लें

अगर आप भी हमेशा स्वस्थ्य रहना चाहते हैं तो आचार्य चाणक्य की कुछ बातों को अपने जीवन में उतार लें। दरअसल आचार्य चाणक्य ने नीति शास्त्र में आहार से जुड़े कुछ नियमों का जिक्र किया है, जिनका पालन करने से बीमारी से अपना बचाव किया जा सकता है।

हेल्थ डेस्क। अगर आप भी हमेशा स्वस्थ्य रहना चाहते हैं तो आचार्य चाणक्य की कुछ बातों को अपने जीवन में उतार लें। दरअसल आचार्य चाणक्य ने नीति शास्त्र में आहार से जुड़े कुछ नियमों का जिक्र किया है, जिनका पालन करने से बीमारी से अपना बचाव किया जा सकता है।

Acharya Chanakya

अजीर्णे भेषजं वारि जीर्णे वारि बलप्रदम्
भोजने चामृतं वारि भोजनान्ते विषप्रदम्।

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि भोजन ग्रहण करने के करीब आधा घंटा बाद पिया गया पानी शरीर को मजबूत प्रदान करता है। भोजन के बीच में थोड़ा-थोड़ा पानी पीना अमृत के समान माना जाता है। लेकिन भोजन के तुरंत बाद पानी पीना विष से कम नहीं है। इसलिए ऐसा करने से बचना चाहिए।

राग बढत है शाकते, पय से बढत शरीर
घृत खाये बीरज बढे, मांस मांस गम्भीर।

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि शाक खाने से रोग बढ़ते हैं। दूध पीने से शरीर बलवान होता है। घी खाने से वीर्य बढ़ता है और मांस खाने से शरीर में मांस बढ़ जाता है। इसलिए आहार के नियमों का ध्यान रखना चाहिए।

गुरच औषधि सुखन में भोजन कहो प्रमान
चक्षु इंद्रिय सब अंश में, शिर प्रधान भी जान।

चाणक्य ने नीति शास्त्र में औषधियों में गुरच यानी गिलोय को सर्वश्रेष्ठ बताया है। सभी सुखों में भोजन परम सुख होता है। चाणक्य कहते हैं कि शरीर में आंखें प्रधान हैं और सभी अंगों में मस्तिष्क का भी विशेष महत्व है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *