17 मई से शुरू हो रहा है ज्येष्ठ मास, गलती से भी ना खाएं ये चीज क्योंकि…

नई दिल्ली: इस बार हिंदू कैलेंडर का तीसरा महीना यानी ज्येष्ठ माह (ज्येष्ठ माह 2022) मंगलवार 17 मई से शुरू होने जा रहा है जो 14 जून मंगलवार तक चलेगा. आपको बता दें कि इस महीने में कई प्रमुख व्रत पर्व भी मनाए जाते हैं। दरअसल इस लिस्ट में शनि जयंती, गंगा दशहरा और निर्जला एकादशी प्रमुख हैं। हालांकि कई ज्योतिषियों के अनुसार इस महीने के स्वामी मंगलदेव हैं और इस महीने के अंतिम दिन चंद्रमा ज्येष्ठा नक्षत्र में है, इसलिए इस महीने का नाम ज्येष्ठा पड़ा। इसके साथ ही इस महीने से जुड़े कई नियम और परंपराएं हैं जिनका पालन करना चाहिए।

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार ज्येष्ठ मास में दोपहर में नहीं सोना चाहिए। जी हां, क्योंकि ऐसा करने से कई तरह की शारीरिक समस्याएं हो सकती हैं। हालांकि, अगर बहुत जरूरी हो तो सिर्फ एक मुहूर्त यानी करीब 48 मिनट तक ही सो सकते हैं। कहते हैं इस पूरे महीने में सूर्योदय से पहले उठकर नदी में स्नान कर जल का दान भी करना चाहिए. यानी प्यासे लोगों के लिए पीने के पानी की व्यवस्था की जाए. दरअसल पुराणों के अनुसार इस महीने में पानी की बर्बादी के कारण वरुण दोष होता है।

हिंदू कैलेंडर के तीसरे महीने यानी ज्येष्ठ महीने में बैगन खाना मना है। जी हां, आयुर्वेद के अनुसार इस महीने में बैगन खाना शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है। हाँ, और यह शरीर में वात (वायु) रोग और गर्मी बढ़ा सकता है। इसलिए पूरे महीने बैगन खाने से बचना चाहिए। महाभारत के अनुसार- ज्येष्ठमूलम तू यो मासमेकभक्तें संसिपेट। ऐश्वर्यामतुलम श्रेष्ठम पुमंस्त्री वा प्रपद्यते। इसका अर्थ है कि जो व्यक्ति ज्येष्ठ के महीने में केवल एक बार भोजन करता है वह धनवान हो जाता है। इसलिए हो सके तो इन दिनों में एक बार भोजन करना चाहिए।

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार इस महीने में तिल का दान करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं और व्यक्ति की हर मनोकामना पूरी होती है। दरअसल ऐसा करने से सेहत से जुड़ी परेशानियां भी दूर हो जाती हैं।