Brahmi के गुणकारी तत्व जो हमारे दिमाग को तेज करने सहायक हैं, जानें

जीवनशैली में लोगो के काफी बदलाव आ गया हैं, इंटरनेट की दुनिया में लोग देर रात तक जागते हैं और अगली सुबह देर तक सोते हैं।

जीवनशैली में लोगो के काफी बदलाव आ गया हैं, इंटरनेट की दुनिया में लोग देर रात तक जागते हैं और अगली सुबह देर तक सोते हैं। साथ ही अनुचित खानपान के चलते शरीर को आवश्यक तत्वों की पूर्ति नहीं होती है। इससे शरीर में पोषक तत्वों की कमी होने लगती हैं। (Brahmi)

Brahmi

इन वजहों से कई बीमारियां दस्तक देती हैं। इनमें एक स्मरण शक्ति का कमजोर होना हैं। इस स्थिति में व्यक्ति को भूलने की बीमारी हो जाती है। हालांकि, स्मरण शक्ति कमजोर होने के कई अन्य कारण भी हैं। इनमें एक पोषक तत्वों की कमी भी हैं। (Brahmi)

अगर आप भी भूलने की बीमारी से परेशान हैं और इससे निजात पाना चाहते हैं, तो ब्राह्मी (Brahmi) का सेवन करें। विशेषज्ञों की मानें तो ब्राह्मी का सेवन करने से दिमाग तेज होता है। कुछ शोधों में प्रमाणित हो चुका है कि ब्राह्मी स्मरण शक्ति बढ़ाने में सक्षम है। तो आइए, इसके बारे में सबकुछ जानते हैं-

Brahmi क्या हैं-

चरक संहिता में ब्राह्मी (Brahmi) का कई बार उल्लेख है। सृष्टि के सृजनकर्ता भगवान ब्रह्मा के नाम पर इस पौधे का नाम रखा गया हैं। प्राचीन काल से ब्राह्मी का इस्तेमाल औषधि के रूप में किया जाता है।

Brahmi में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं, जो शारीरिक और मानसिक समस्या को दूर करने में सहायक होते हैं। खासकर तनाव और अवसाद के लिए ब्राह्मी संजीवनी बूटी है। वहीं, बालों के विकास में ब्राह्मी की अहम भूमिका होती हैं।

क्या कहती हैं शोध (Brahmi)-

एक शोध की मानें तो ब्राह्मी (Brahmi) के सेवन से दिमाग एकाग्र और तेज होता है। इस शोध में दिन में दो बार 300 mg ब्राह्मी खाने की सलाह दी गई थी। इस शोध में खुलासा हुआ है कि ब्राह्मी के सेवन से कुछ महीनों में दिमाग तेज हो सकता है। वहीं, रिसर्चगेट पर छपी एक शोध में बताया गया है कि ब्राह्मी में कई ऐसे गुणकारी तत्व पाए जाते हैं, जो दिमाग तेज करने में सहायक सिद्ध होते हैं।

ब्राह्मी (Brahmi) के सेवन से हार्मोन बैलेंस्ड होता है। इससे तनाव में भी राहत मिलता है। इसके लिए ब्राह्मी की पत्तियां चबाएं। साथ ही रात में सोते समय ब्राह्मी तेल से बालों की मालिश करें। इससे बहुत जल्द आराम देखने को मिल सकता हैं।

कैसे करें सेवन

बाजार में ब्राह्मी (Brahmi) पाउडर आसानी से मिल जाते हैं। आप बाजार से ब्राह्मी पाउडर खरीद सकते हैं। वहीं, घर पर ब्राह्मी होने पर ताजे पत्तों का सेवन कर सकते हैं। वहीं, रोजाना सुबह में खाली पेट दूध में एक चम्मच ब्राह्मी पाउडर मिलाकर सेवन करें।

बच्चे कैसे होते हैं डिस्लेक्सिया के शिकार, जानें-इसके लक्षण, कारण और उपचार

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *