जानिए! इस किले पर क्यों की जाती 7 लड़कियों की पूजा ?

ललितपुर के पास एक गांव है जहां करीब 150 साल पहले ऐसी दर्दनाक घटना घटी थी, जिसका असर आज भी है। इस किले के दरवाजे पर 7 लड़कियों की पेंटिंग बनी हुई है। गांव की महिलाएं हर साल इन कन्याओं की पूजा करती हैं। 1850 के आसपास, मर्दन सिंह ललितपुर के बानपुर के राजा थे। वह तालबेहट भी आता-जाता रहता था, इसलिए उसने ललितपुर के तालबेहट में एक महल बनवाया।

उनके पिता प्रह्लाद यहीं रहते थे। राजा मर्दन सिंह ने 1857 के विद्रोह में रानी लक्ष्मीबाई का समर्थन किया था। उन्हें एक योद्धा और क्रांतिकारी के रूप में याद किया जाता है। जहां मर्दन सिंह का नाम सम्मान के साथ लिया जाता है, वहीं उनके पिता प्रह्लाद सिंह ने अपनी हरकतों से बुंदेलखंड को कलंकित किया था. इतिहासकारों के अनुसार यह अक्षय तृतीया का दिन था। तब इस पर्व पर नेग मांगने की रस्म होती थी।

महल की बुर्ज से कूदकर मर गई – इस रस्म को पूरा करने के लिए तलबेहट राज्य की 7 लड़कियां राजा मर्दन सिंह के इस किले में नेग मांगने गई थीं। तब राजा के पिता प्रह्लाद किले में अकेले थे। लड़कियों की खूबसूरती देखकर उनके इरादे खराब हो गए और उन्होंने इन सातों को वासना का शिकार बना लिया। शाही महल में लड़कियां बेबस थीं। घटना से आहत लड़कियों ने महल के बुर्ज से कूदकर आत्महत्या कर ली।

यहां के स्थानीय निवासियों के अनुसार तालबेहट किले में आज भी उन 7 पीड़ित लड़कियों की आत्मा की चीखें सुनाई देती हैं. यह घटना अक्षय तृतीया के दिन हुई थी, इसलिए आज भी यहां यह त्योहार नहीं मनाया जाता है। तालबेहट निवासी सुरेंद्र सुदेले कहते हैं, ”यह किला अशुभ माना जाता है. रख-रखाव के अभाव में यह खंडहर में तब्दील होता जा रहा है.” एसएस झा कहते हैं, ”लड़कियों के चीखने-चिल्लाने को कई बार महसूस किया गया है. इसलिए लोग यहां रात में ही नहीं बल्कि दिन में भी जाना ठीक नहीं समझते.”

पिता की करतूत का प्रायश्चित – 7 बच्चियों की एक साथ मौत से तालबेहट गांव में कोहराम मच गया. जनता का गुस्सा देखकर राजा मर्दन सिंह ने अपने पिता प्रह्लाद को यहां से वापस बुला लिया था। वह अपने पिता की हरकतों से दुखी था। सामाजिक कार्यकर्ता और शिक्षक भानुप्रताप कहते हैं, “जनता के गुस्से को शांत करने और अपने पिता के कुकर्मों पर पश्चाताप करने के लिए राजा मर्दन सिंह ने लड़कियों को श्रद्धांजलि दी थी।

उन्होंने किले के मुख्य द्वार पर बनी 7 कन्याओं के चित्र बनवाए, जो आज भी मौजूद हैं।” इतने सालों बाद भी ललितपुर में अक्षय तृतीया का दिन अशुभ माना जाता है। स्थानीय निवासी संतोष पाठक का कहना है, ”इस पर महिलाएं दिन किले के मुख्य द्वार पर सात लड़कियां तस्वीर की पूजा करने जाती हैं।