वास्तु के इन छोटे-छोटे उपायों से खुद को करें तनाव मुक्त

वर्तमान समय मे मनुष्य का परेशान और चिंतित होना एक सामान्य बात है लेकिन यह परेशान और हताशा मनुष्य के स्वास्थ्य के लिए अच्छी नही होती कभी कभी तो मनुष्य हताश और परेशान होकर अपनी जान तक ले लेता है। कितने लोग तो छोटी छोटी बातो पर भी टेंशन लेते है यदि

तनाव

स्थायी संपत्ति के लिए करें गुड़ के ये उपाय, मिलेगा लाभ

आपको भी छोटी- छोटी बातो पर टेंशन हो जाता है और डॉक्टरों की सलाह से भी आपकी परेशान कम नहीं हो पा रही है तो आप को एक बार वास्तु शास्त्र के कुछ  उपायो को भी अपना कर देखना चाहिए। वास्तु शास्त्र मे बताया गया है कि किस तरह से मनुष्य वास्तु के छोटे-छोटे उपायों को अपनाकर खुद को तनाव मुक्त कर सकता है।तो चलिए जानते है कि वह कौन-कौन से वास्तु के छोटे छोटे उपाय है जिस से आदमी टेंशन फ्री अपनी जिंदगी जी सकता है।

  • वास्तु शास्त्र के अनुसार यदि आप दिन भर में एक बार भी चांदी के ग्लास मे पानी पीते है तो आप आसानी से अपने गुस्से पर काबू पा सकते है, जो कि तनाव मे होने का एक बड़े कारणो मे से एक है।
  • यदि आपको अपने घर में नकारात्मक प्रभाव का आभास होता है तो आप घर में शाम के समय मे सुगंधित व पवित्र धुआं करें। ऐसा करने से आपके घर का वातावरण सकारात्मक रहेगा और घर के सदस्य टेंशन फ्री रहेगे।
  • बहुत सारे ऐसे लोग होते है जो घर के बेडरूम में ही एल्कोहल का सेवन करते है, लेकिन माना जाता है कि ऐसा करने से घर मे टेंशन बढ़ता है। इसलिए वास्तु शास्त्र कहता है कि जहां तक संभव हो बेडरूम में एल्कोहल का इस्तेमाल न करे और अपने बेडरूम मे सुगंधित इत्र अथवा सुगंधित पदार्थ का छिड़काव करे ऐसा करने से व्यक्ति के मन को शांति मिलती है और व्यक्ति अपने आप को थोड़ी देर टेंशन से राहत पाता है।
  • अगर संभव हो तो घर में हमेशा हल्के रंग करवाने करने चाहिए। वास्तु शास्त्र के मुताबिक घर मे हल्का रंग करने से घर के सदस्यों के बीच खुशनुमा माहौल बना रहता है जिस से व्यक्ति के तनाव मे राहत आती है वही घर मेचटकीले रंग करवाने से घर में नीरसता छा जाती है।
  • किचन को सुंदर बनाने के लिए सामानयतः लोग पत्थर लगवाते है वह भी गहरे रंग का पत्थर, जिससे कि तेल आदि गिरने पर दिखे नहीं, लेकिन वास्तु शास्त्र के हिसाब से रसोईघर मे कभी भी गहरे रंग के पत्थर नहीं लगवाने चाहिए। खासकर काले रंग के पत्थर को रसोईघर में लगवाने से बचना चाहिए।
  • जहां तक संभव हो सके रसोईघर में आग और पानी को हमेशा दूर दूर ही रखना चाहिए वास्तु शास्त्र की माने तो ऐसा करने से व्यक्ति का टेंशन कम होता है।
  • वास्तु शास्त्र कहता है कि रात में खाना खाने के बाद झूठे बर्तन सुबह के लिए नही छोडने चाहिए ऐसा करने से व्यक्ति के जीवन मे नीरसता आती है जो तनाव का एक महत्वपूर्ण कारण है।
  • घर में लगे मकड़ी के जाले भी वयकति के मानसिक तनाव को बढ़ाने का कारण होते है। इसीलिए संभव हो सके तो अपने घर मे लगे मकड़ी के जालों को तुरंत ही हटा दें।
  • यदि संभव हो सके तो घर में सुबह उठ कर जरूर पूजा करनी चाहिए। शास्त्रो के अनुसार पूजा करने का सही समय 6 से 8 बजे के बीच का माना गया है। पूजा करने के हमेशा जमीन पर ऊनी  या सूती आसन बिछा कर पूजा करनी चाहिए ऐसा करने से व्यक्ति के मन मे शांति बनी रहती है जिस से व्यक्ति को तनाव कम होता है।
  • सोफाखरीदते समय वयकति को सोफे का रंग का ध्यान रखना चाहिए। यदि सोफासेट हल्के नीले रंग का हो तो व्यक्ति को मानसिक शांति का आभास होता है। जिस से व्यक्ति को थोडी देर के लिए ही सही लेकिन टेंशन से राहत अवश्य मिलती है।

वास्तु शास्त्र में व्यक्ति को तनाव से मुक्त करने मे रंगों का बड़ा महत्व बताया गया है। माना जाता है कि यदि वास्तु के अनुसार रंगों का चयन किया जाये तो बहुत हद तक व्यक्ति  डिप्रेशन से मुक्ति पा सकता हैं। वास्तु शास्त्र के हिसाब से यह रंग वयकति के टेंशन को बढा और घटा सकते हैं।

  • वास्तु शास्त्र के मुताबिक ग्रे रंग के कपड़े वयकति के मानसिक टेंशन को काफी हद तक कम करने में बहुत ही सहयक होते हैं। यदि आप अपने घर के लिविंग रूम की दीवारों को भी लाइट ग्रे रंग में रंग देतो है तो इस से आपका घर देखने मे सुंदर लगने के साथ साथ यह आपको शांति भी प्रदान करता है।
  • लैवेंडर रंग को कहा जाता है कि यह रंग अपने नाम की भांति ही शांत होता है। यदि टेंशन को कम करने की बात की जाये तो वास्तु-शास्त्र कहता है इस रंग के प्रयोग करने से आप टेंशन से कोसो कोसो दूर हो जाते है क्योकि यह रंग मन को प्रफुल्लित कर देता है। इसलिए कोशिश करनी चाहिए कि कभी कभार लैवेंडर रंग के कपड़े पहनने के।
  • सभी लोग जानते है कि सफेद रंग प्रेम और शांति  का प्रतीक होता है। इस रंग को इस्तेमाल करके आप अपने जीवन को तनाव मुक्त कर सकते है। माना जाता है कि सफेद रंग आपके मस्तिष्क में कोशिकाओं को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसलिए इस रंग का प्रयोग करके व्यक्ति टेंशन को दूर कर सकता है।
  • नीले रंग को बहुत ही खूबसूरत रंग माना जाता है और इस रंग को प्रयोग करके आदमी आसानी से टेंशन को दूर कर सकता हैं। इतना ही नहीं, यह रंग रक्तचाप को नियंत्रित करने में भी सहायक होता है। यदि आप टेंशन में रहते हुए इस रंग को देख लेते हैं तो यह तुरंत ही आपके मस्तिष्क को आराम महसूस कराता है।
  • हरे रंग को प्रकृति और शांति का प्रतीक माना जाता है। वास्तु-शास्त्र की माने तो यह रंग जीवन मे खुशियों को लाता है और अवसाद को कम करता है। यह रंग मनुष्य के टेंशन को दूर करने में मदद करता है। इसलिए कोशिश करनी चाहिए कि कभी कभार हल्का हरा रंग के कपड़े पहनने की। ऐसा करने से आप को टेंशन न का बराबर हो जाता है जिस से जीवन मे आपके सफल होने के चांसेज बढ जाते है। आप चाहे तो इस रंग का प्रयोग आप अपने कमरे में भी कर सकते हैं।

इन तीन राशियों के लोग रखें ध्यान, अगले 15 दिनों तक हो सकती है परेशानी