Mission Shakti: विद्यालयों में गठित होगा शक्ति मंच, महिलाओं और बालिकाओं को किया जायेगा प्रशिक्षित

बालिकाओं व महिलाओं के सम्मान, सुरक्षा व स्वावलंबन के लिए जिले में संचालित होने वाले सभी माध्यमिक विद्यालयों में शक्ति मंच का...

महराजगंज। बालिकाओं व महिलाओं के सम्मान, सुरक्षा व स्वावलंबन के लिए जिले में संचालित होने वाले सभी माध्यमिक विद्यालयों में शक्ति मंच का गठन होगा। इसके माध्यम से जहां उन्हें स्वावलंबी बनाने का कार्य होगा। वहीं उनके अनुुकूल माहौल सृजित कर उनके विकास के दृष्टिगत भी आवश्यक कदम उठाया जाएगा। मंच का गठन इसी माह के अंत तक कर लेना है।

Mission Shakti

मिशन शक्ति के चौथे चरण में भी महिलाओं व बालिकाओं की सुरक्षा व समृद्धि की दिशा में विभिन्न विभागों की तरफ से प्रयास किया जाना है। ऐसे में शिक्षा विभाग को भी जिम्मेदारी प्रदान की गई है। प्राप्त जिम्मेदारी के क्रम में जिले में संचालित होने वाले सभी माध्यमिक विद्यालय में शक्ति मंच का गठन किया जाएगा। इसमें महिला कर्मियों को प्राथमिकता दी जाएगी।

गठन के उपरांत प्रत्येक माह के दूसरे व चौथे शनिवार को मंच की ओर से बैठक आयोजित कर बालिकाओं व महिलाओं के सुरक्षा, सम्मान व उन्हें आत्मनिर्भर बनाए जाने के लिए चर्चा की जाएगी। इस पहल से जहां उनकी स्थिति में सुधार आएगा, वहीं दूसरों को भी प्रोत्साहित करने का कार्य किया जा सकेगा।

इन विद्यालयों में होगा शक्ति मंच का गठन

यूपी बोर्ड से संचालित होने वाले सभी 28 राजकीय विद्यालय, 39 सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालय तथा 177 वित्तविहीन माध्यमिक विद्यालय में शक्ति मंच का गठन कराए जाने की योजना है।

इन गतिविधियों को दिया जाएगा बढ़ावा

शक्ति मंच की तरफ से जिन गतिविधियों को बढ़ावा दिए जाने का कार्य किया जाना है उसमें बालिकाओं व महिलाओं को सुरक्षा की शपथ दिलाई जाएगी। उन्हें मुश्किलों में प्रयोग किए जाने वाले विभिन्न हेल्पलाइन नंबर व अन्य विषयों की जानकारी दी जाएगी। प्रत्येक माह के तृतीय शनिवार को निबंध, वाद-विवाद, परिचर्चा का आयोजन करते हुए बालिकाओं व महिलाओं के ज्ञान के स्तर में वृद्धि किए जाने की भी कवायद होगी।

क्या कहते हैं जिविनि

जिला विद्यालय निरीक्षक अशोक कुमार सिंह ने बताया कि मिशन शक्ति के तहत जिले के सभी 244 माध्यमिक विद्यालयों में शक्ति मंच का गठन किए जाने की व्यवस्था बनाई गई है। शक्ति मंच का गठन इसी माह के अंत तक कर लेना है। इसके लिए प्रधानाचार्यों को दिशा निर्देश जारी कर दिया गया। छुट्टियों के दिन आनलाइन तथा जुलाई से आफलाइन गतिविधियां आयोजित की जाएगी।