चाणक्य नीति के अनुसार यात्रा के दौरान होने चाहिए इतने लोग...नहीं तो होगा नुकसान!

img

चाणक्‍य नीति: चाणक्‍य कहते हैं कि हम काम में तभी सफल हो सकते हैं जब हम कुछ बातों को अपने जीवन में अपनाएंगे। आचार्य चाणक्य ने अपनी चाणक्य नीति में व्यक्ति के जीवन से जुड़ी कई बातें बताई हैं।

इसका पालन करके व्यक्ति जीवन की कई समस्याओं का समाधान कर सकता है। चाणक्य नीति में बताया गया है कि कौन सा काम कब करना चाहिए या कौन सा काम कितने लोगों के साथ करना चाहिए। अगर हम इन्हें अपने जीवन में अपना लें तो हम काम में आसानी से सफल हो सकते हैं।

चार लोगों के साथ यात्रा

-चाणक्य के अनुसार व्यक्ति को हमेशा 4 लोगों के साथ यात्रा करनी चाहिए। अगर आप अकेले यात्रा करते हैं तो आपको अधिक जोखिम उठाना पड़ सकता है। दूसरे शब्दों में, कोई भी समस्या दो लोगों द्वारा हल नहीं की जा सकती। इसलिए चाणक्य कहते हैं कि अगर यात्रा पर कम से कम 4 लोग होंगे तो वे एक-दूसरे का समर्थन करेंगे।

इसे केवल दो लोगों द्वारा ही पढ़ा जाना चाहिए

-चाणक्य के अनुसार 2 लोगों के साथ बैठकर पढ़ना चाहिए। क्योंकि एक ही जगह पर कई लोगों के बैठकर पढ़ने से ध्यान भटकेगा। ऐसे में आप ठीक से पढ़ाई नहीं कर पाते. वहीं, जब सिर्फ दो लोग एक साथ पढ़ते हैं तो किसी विषय में दिक्कत आने पर वे एक-दूसरे की मदद कर सकते हैं।

चाणक्य नीति: तमिल में सफलता के लिए हमें किस स्थान पर कितने लोगों के साथ जाना चाहिए

तप तो एक को ही करना चाहिए

आचार्य चाणक्य के अनुसार तपस्या हमेशा अकेले ही करनी चाहिए। क्योंकि अगर आप इसे दूसरे लोगों के साथ करेंगे तो आपका ध्यान भटक सकता है। अतः सदैव अकेले ही तप करो। ऐसा करने से तपस्या ठीक से पूरी हो सकती है और तभी आप अपने लक्ष्य तक पहुंच सकते हैं।

कम से कम 3 लोगों के साथ मनोरंजन के लिए जाना चाहिए

अगर आप किसी मनोरंजन कार्यक्रम में जा रहे हैं तो आपको कम से कम 3 लोगों के साथ जाना चाहिए। आचार्य चाणक्य के अनुसार मनोरंजन के लिए 3 लोगों से ज्यादा की भीड़ नहीं होनी चाहिए। चाणक्य कहते हैं कि अगर आप 3 से कम लोगों के साथ मौज-मस्ती के लिए बाहर जाते हैं तो आपको इसका पूरा आनंद नहीं मिल पाएगा।

जब आप युद्ध में जाते हैं तो आपको समूहों में जाना पड़ता है

आचार्य चाणक्य के अनुसार कभी भी अति आत्मविश्वास के साथ युद्ध में अकेले नहीं उतरना चाहिए। क्योंकि युद्ध में यह मायने रखता है कि आपके पक्ष में कितने लोग हैं। आप जितने अधिक लोगों के साथ साझेदारी करेंगे, आपकी सफलता की संभावना उतनी ही अधिक होगी। इसलिए युद्ध पर जाते समय आपको अपने साथ अधिक सहायक और मित्र ले जाना चाहिए।

Related News