कहानी एक ऐसे ग्रह की जहां एक साथ फटे 37 ज्वालामुखी, हैरान कर देने वाला है रहस्य

नई दिल्ली: अंतरिक्ष की दुनिया रहस्यों से भरी पड़ी है। इनके बारे में जानने के लिए लोगों में हमेशा से उत्सुकता रही है। पृथ्वी पर ज्वालामुखी फटने की घटनाओं के बारे में आपने हमेशा सुना और पढ़ा होगा, लेकिन किसी अन्य ग्रह पर ऐसी गतिविधियों के बारे में आप नहीं जानते होंगे। आज हम आपको एक ऐसे ही ग्रह के बारे में बताने जा रहे हैं जहां एक साथ एक नहीं बल्कि दो ज्वालामुखी फटे थे। कई शोधों में यह दावा किया गया है कि ज्वालामुखी न केवल पृथ्वी पर हैं, बल्कि मंगल से लेकर बुध तक सौरमंडल के अन्य ग्रहों पर भी हैं।

हालांकि इनमें से कुछ ज्वालामुखी लाखों वर्षों से शांत हैं, लेकिन कुछ समय-समय पर सक्रिय हो जाते हैं। ऐसे ही एक ग्रह पर कुछ दिन पहले ज्वालामुखी फटने लगे थे। जिसके बारे में वैज्ञानिक भी दावा कर रहे हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि पृथ्वी के पास इस ग्रह पर कुल 37 ज्वालामुखी एक साथ सक्रिय हैं, जिनमें से कुछ कभी न कभी फट रहे हैं।

दरअसल, शुक्र ग्रह पर ज्वालामुखी फटना जारी है। मैरीलैंड विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने शुक्र के सक्रिय ज्वालामुखियों की खोज की है। अभी तक यह माना जाता था कि इस ग्रह की टेक्टोनिक प्लेट्स शांत हैं, लेकिन हाल के कुछ शोधों में पाया गया है कि ज्वालामुखी विस्फोट के कारण इसकी टेक्टोनिक प्लेट्स में हलचल हो रही है और भूकंप आ रहे हैं। वैज्ञानिकों के अनुसार ज्वालामुखी विस्फोट के कारण शुक्र की सतह पर गोलाकार क्रेटर बने हैं, जो बहुत गहरे और बड़े हैं। इन गड्ढों को कोरोना या कोरोना कहा जाता है।

दरअसल, किसी भी ग्रह पर ज्वालामुखी के लावा के बहने के लिए ये गड्ढे जरूरी हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि शुक्र की सतह पर 1990 से अब तक कुल 133 कोरोनों की जांच की जा चुकी है, जिनमें से 37 सक्रिय पाए गए हैं, यानी इनसे ज्वालामुखी का लावा निकला है। दावा किया जा रहा है कि इनमें से अभी भी गर्म गैस निकल रही है. वैज्ञानिकों के अनुसार शुक्र के इन 37 सक्रिय ज्वालामुखियों में से अधिकांश इसके दक्षिणी गोलार्ध में स्थित हैं।

इसके सबसे बड़े कोरोना को आर्टेमिस कहा जाता है। यह काफी विस्तृत है। इसका व्यास 2100 किमी है। वहीं इंस्टीट्यूट ऑफ जियोफिजिक्स के वैज्ञानिक अन्ना गुलचर का कहना है कि शुक्र ग्रह भौगोलिक दृष्टि से कभी शांत नहीं था, न ही अभी है और न ही भविष्य में इसके शांत रहने की संभावना है.