एक महिला के दो प्रेमी!, फिर जो हुआ वह उसे जानकर यकीन नहीं करेंगे आप

खुलासा करते हुए आरोपित जेठ व घटना में उसका साथ देने वाले छोटे भाई को पुलिस ने जेल भेज दिया है। 

झांसी। सीपरी बाजार थाना क्षेत्र में शुक्रवार की सुबह-सुबह माॅर्निंग वॉक के लिए निकली एक महिला की अज्ञात व्यक्ति द्वारा सिर में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। पाॅश इलाके में घटित सनसनीखेज घटना को महज 24 घंटे में उजागर करते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि महिला के जेठ ने ही खुद को छोड़ किसी अन्य के साथ अवैध संबंध हेने के संदेह में बहू को मौत के घाट उतारा था। खुलासा करते हुए आरोपित जेठ व घटना में उसका साथ देने वाले छोटे भाई को पुलिस ने जेल भेज दिया है।
Pooja Jaiswal murder case
शनिवार को पाॅश इलाके में हुई हत्या की घटना से पर्दा उठाते हुए एसएसपी दिनेश कुमार पी ने बताया कि घटना को अंजाम देने वाला और कोई नहीं बल्कि प्रदीप जायसवाल की मृतका पत्नी पूजा जायसवाल का जेठ ओमप्रकाश जायशवाल ही थी। इस बात की जानकारी पुलिस को बीते रोज घटना के कुछ घंटों बाद ही हो चुकी थी। किन्तु शव के अन्तिम संस्कार के पहले पुलिस ने इसलिए कुछ नहीं किया ताकि कोई राजनैतिक मुद्दा न बन जाए। शाम होते ही पुलिस ने मृतका के परिजनों का एक एक कर बयान लिया। इस दौरान ओमप्रकाश ही वह व्यक्ति था जिसके बयानों में सत्यता नहीं थी। उधर पुलिस को सीसीटीवी फुटेज से जो तस्वीरें मिली थी,उनमें एक व्यक्ति पूजा जायसवाल के साथ दिखाई दे रहा था। जबकि बाद में उसका कोई पता नहीं चल सका।
पुलिस ने जब ओमप्रकाश से इस बारे में जानना चाहा तो सबकुछ साफ हो गया। उसने स्वीकार किया कि उसी ने अपनी बहू को गोली मारी थी। दरअसल पूजा के भाई ने भी पुलिस को बताया था कि ओमप्रकाश के पूजा से पिछले कुछ वर्षों से अवैध संबंध थे। ओमप्रकाश ने यह बयां किया कि कुछ दिनों से पूजा उससे बात नहीं कर रही थी। इसके चलते उसे संदेह था कि पूजा के संबंध किसी अन्य व्यक्ति से हो गए हैं। इसी शक के चलते उसने बहू की हत्या कर दी। यही नहीं घटना को अंजाम देने के बाद उसने अवैध असलहा अपने छोटे भाई दिलीप को छुपाने को दिया था। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

अवैध पिस्टल से किए थे तीन फायर

ओमप्रकाश ने बताया कि उसने .32 की अवैध पिस्टल से पूजा को तीन गोलियां मारी थी। पहली गोली लगने के बाद ही वह गिर गई थी। दूसरा फायर मिस हो गया था। जबकि तीसरी गोली उसे फिर से लगी थी। पुलिस ने भी घटना स्थल से एक जिंदा व दो खाली कारतूस बरामद किए थे।

25 हजार का पुरस्कार

पुलिस कप्तान ने घटना के अनावरण में लगी पुलिस टीमों को 25 हजार का पुरस्कार देने की घोषणा की। साथ ही मामले में आईजी सुभाष बघेल से भी पुरस्कार के लिए संस्तुति की है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *