वास्तु दोष हो सकता है रोग का कारण, इन उपायों से वास्तु दोष दूर कर अपने घर को बनाएं रोगमुक्त

नई दिल्ली: कहा जाता है कि स्वस्थ शरीर में सुख और शांति का वास होता है और यह सच भी है. अगर आप बीमार हैं या आपका अपना कोई बीमार है तो घर में सब कुछ होते हुए भी उदासी और उदासी का माहौल रहता है। कई बार वास्तु दोष के कारण भी ऐसा होता है। अगर आपके घर में कोई लगातार बीमार रहता है या एक के बाद एक बीमार पड़ रहा है तो आपको समझ लेना चाहिए कि इसके पीछे कोई वास्तु दोष हो सकता है। ऐसे में अपने घर से बीमारी को दूर करने के लिए इन वास्तु उपायों को अपनाने की कोशिश करें।

वास्तु दोष दूर कर अपने घर को बनाएं रोगमुक्त

अगर आपके घर के मुख्य द्वार या गेट के बाहर कोई गड्ढा है तो उसे भर दें। क्योंकि यह एक गंभीर वास्तु दोष है। यह घर के मुखिया के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। याद रखें कि घर के मुख्य द्वार के सामने साफ-सफाई जरूरी है। अगर घर में लोग बार-बार बीमार होते हैं तो उनके सोने की दिशा पर ध्यान दें। सोते समय परिवार के प्रत्येक सदस्य का मुखिया दक्षिण दिशा की ओर तथा पैर उत्तर की ओर होने चाहिए।

यदि आपके घर के सामने किसी प्रकार का पेड़ या खंभा है तो उसे दूर करने का प्रयास करें, क्योंकि इससे गंभीर वास्तु दोष होते हैं। यदि संभव न हो तो प्रतिदिन अपने मुख्य द्वार पर रोली या हल्दी से स्वस्तिक बनाएं। अगर किसी बीमार व्यक्ति के कमरे में हमेशा पर्दे या खिड़कियां बंद रहती हैं, तो यह वास्तु दोष हो सकता है। इसलिए बेडरूम को पूरी तरह से बंद न रखें बल्कि बीच-बीच में इसे खोलते रहें। प्रकाश और हवा को अंदर आने दो।

अगर आपके बेडरूम में भगवान की तस्वीर है तो उसे तुरंत हटा दें। कभी भी गलती से भी भगवान का चित्र या मंदिर शयन कक्ष में न रखें। घर का मध्य भाग हमेशा खाली रखना चाहिए। यदि इस भाग में भारीपन हो तो यह सकारात्मक ऊर्जा को कम करता है। अगर घर में बीम हो तो उसके नीचे कभी न बैठें और न ही सोएं। बीम के नीचे नकारात्मक ऊर्जा रहती है, जिससे शरीर बीमार हो जाता है।

हर पूर्णिमा पर भगवान शिव परिवार की पूजा करें और अपने परिवार के स्वस्थ होने की प्रार्थना करें। घर की दक्षिण दिशा में हनुमान जी का चित्र लगाएं। यदि घर का मुख दक्षिण दिशा में हो तो मुख्य द्वार पर पंचमुखी हनुमान जी का चित्र लगाएं।