दो हिस्सों में बंटी इस विशालकाय चट्टान को देखकर हैरान रह जाएंगे आप, वैज्ञानिक भी नहीं जान पाए इसका राज

हमारी धरती पर ऐसे कई रहस्य हैं, जिनमें से कुछ के बारे में ही इंसानों को पता चला है। इसके बावजूद आज भी ऐसे अनगिनत रहस्य हैं, जिनके बारे में आज तक कोई नहीं जान पाया है। आज हम आपको एक ऐसी विशाल चट्टान के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे देखकर आप जरूर हैरान रह जाएंगे। दुनिया भर के वैज्ञानिक भी इस रहस्य के रहस्य को नहीं सुलझा पाए। दरअसल, हम बात कर रहे हैं। सऊदी अरब में मौजूद रॉक ऑफ अल नस्ला के बारे में, इस चट्टान को देखकर हर कोई हैरान है,

क्योंकि पृथ्वी पर अभी तक ऐसी कोई तकनीक नहीं बनी है जो इतने बड़े पत्थर को दो टुकड़ों में काट सके और वह भी इतने सटीक तरीके से कि चट्टान के दोनों टुकड़े बराबर हों और उसमें दरार न पड़े। इस चट्टान को देखकर ऐसा लगता है कि इसे लकड़ी के कटर से काटा गया है। जिस तरह एक पेड़ के तने को आराम से काटा जाता है, उसी तरह इस चट्टान को भी काटा गया है। लेकिन यह चट्टान कब और कैसे दो हिस्सों में बंट गई यह कोई नहीं जानता। इस चट्टान को देखकर लोगों के मन में यह ख्याल आता है कि इसे किसी परजीवी यानी एलियन ने काटा होगा।

लेकिन ये सिर्फ मनगढ़ंत बातें हैं, इसकी सच्चाई कोई नहीं जानता। आपको बता दें कि अल नस्ला एक बहुत बड़ी चट्टान है, जिसे दो समान तरीकों से काटा गया है। तस्वीर देखकर लोग कहते हैं कि ये काम सिर्फ एलियंस ही कर सकते हैं, वरना धरती पर ऐसा करना नामुमकिन है. वहीं इस बारे में कुछ जानकारों का कहना है कि इस तरह की चट्टान की कटाई फ्रीज-थॉ अपक्षय का परिणाम हो सकती है।

आपको बता दें कि यह चट्टान सऊदी अरब के तैमा ओएसिस में स्थित है। हाल की पुरातात्विक खोजों से पता चलता है कि तैमा प्राचीन काल से बसा हुआ है। अल नास्ला इस क्षेत्र में सबसे अधिक फोटोजेनिक पेट्रोग्लिफ्स में से एक है। दो खड़े पत्थरों और सपाट चेहरों के बीच एकदम सही भट्ठा पूरी तरह से प्राकृतिक है। सबसे खास बात यह है कि इस विशालकाय चट्टान के दोनों टुकड़ों की नींव न के बराबर है और इसका संतुलन एक समान रहता है। जो शायद इंसानों के लिए नामुमकिन है।