इंसाफ पाने के लिए मुस्लिम महिलाएं लांघ रहीं घर की दहलीज

img

www.upkiran.org

यूपी किरण ब्यूरो

लखनऊ।। तीन तलाक को लेकर देश भर में बहस छिड़ी है। सुप्रीम कोर्ट में को लेकर सुनवाई चल रही है। पहले जो महिलाएं अपने अधिकारों के लिए आवाज तक नहीं उठाती थी अब वह इंसाफ पाने के लिए अपने घरों की दहलीज लांघ रही हैं।

कुछ पीड़िताओं की दर्द भरी दास्तां सरकार तक पहुंचाने के लिए मुस्लिम वीमेंस लीग ने ‘मुह खोलो कुछ बोलो’ अभियान की शुरुआत की। राजधानी के चौपटिया इलाके में कैंप लगाकर पीड़ित महिलाओं ने अपना रजिस्ट्रेशन किया।

पहले दिन कैंप में आने वाली करीब 60 महिलाओं ने रजिस्ट्रेशन के साथ लिखित शिकायत पत्र सौंपा। महिलाओं ने रजिस्ट्रेशन में अपना नाम, पता, शादी की तिथि, कितने दिन में तलाक हुआ आदि की जानकारी दी।

‘मुंह खोलो कुछ बोलो’ अभियान

पीड़ितों के दर्द को सरकार तक पहुंचाकर उनको इंसाफ दिलाने के लिए मुस्लिम वीमेंस लीग अभियान चलाकर एक डेटाबेस तैयार कर रहा है। बाद में यह डेटा प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भेजा जाएगा।

नाइश हसन

संगठन की महासचिव नाइश हसन ने बताया कि पीड़िताओं का डेटा तैयार करने के लिए प्रदेश के सभी मुस्लिम बाहुल्य जिलों में चरणबद्ध तरीके से अभियान चलाया जाएगा। इस अभियान का यह पहला चरण है। 15 मई को गोमती नगर व 16 मई को कैसरबाग में कैंप लगाकर अभियान चलाया जाएगा।

इसके बाद दूसरा चरण शुरू होगा। दूसरे चरण में बरेली, शाहजहांपुर व बदायूं में अभियान चलाया जाएगा। इसके बाद सहारनपुर, बागपत व बिजनौर, बरेली, मुजफ्फरनगर सहित 24 मुस्लिम बाहुल्य जनपदों में कैंप लगाकर रजिस्ट्रेशन होगा। नाइश हसन कहा कि पीड़ित महिलाएं कैंप में आकर अपना पंजीकरण करा सकती है। पंजीकरण पूरी तरह निःशुल्क है।

 

फोटोः फाइल

 

इसे भी पढ़े

http://upkiran.org/2840

Related News
img
img