राजपूतों को क्यों लेना पड़ा भाजपा को वोट न देने का संकल्प

img

www.upkiran.org

यूपी किरण ब्यूरो

नई दिल्ली।। राजस्थान में पांच लाख के इनामी गैंगस्टर आनंदपाल सिंह के एनकाउंटर के बाद से ही राजपूत समाज ने वसुंधरा सरकार के खिलाफ मौर्चा खोल दिया है। दस दिन गुजर जाने के बाद भी आनंदपाल का अंतिम संस्कार नहीं हो पाया है।

पूरे राजस्थान में आनंदपाल के एनकाउंटर के बाद से ही राजपूतो का विरोध-प्रदर्शन जारी है। करणी सेना के नेतृत्व में राजपूत समाज ने सांवराद में डेरा डाला हुआ है।

सोमवार को हुई बैठक में समाज के लोगों एवं नेताओं ने निर्णय लिया कि जब तक उनकी मांगें नहीं मानी जाती समाज भाजपा सरकार का बहिष्कार करेगा।

इसी के साथ बैठक में संकल्प लिया गया कि समाज के लोग अब कभी भाजपा को वोट नहीं देंगे। दरअसल राजपूत समाज की और से आनंदपाल सिंह एनकाउंटर मामले की सीबीआई जांच करवाने, मंजीतपाल सिंह व रूपेंद्रपाल उर्फ विक्की को एपी के अंतिम संस्कार में शामिल करने, एपी की बड़ी बेटी चीनू पर दर्ज मामले हटाए की मांग की हुई है।

समाज के नेता दुर्गसिह चौहान का कहना है कि आनंदपाल सिंह को विश्वास में लेकर उसकी एनकाउंटर के नाम पर हत्या की गई है। यह एक चुनावी एनकाउंटर किया गया है और अब सरकार उसके परिवार को कुचलना चाह रही हैं।

फोटोः फाइल

इसे भी पढ़ें

http://upkiran.org/4730

http://upkiran.org/4710

Related News