वास्तु शास्त्र के अनुसार शादी की उम्र में लड़कों को नहीं करनी चाहिए ये 3 गलतियां!

नई दिल्ली: वास्तु शास्त्र के अनुसार विज्ञान आसपास की वस्तुओं से उत्पन्न ऊर्जा की दिशा और प्रभाव के बारे में बताता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार सकारात्मक ऊर्जा की वृद्धि होती है जबकि नकारात्मक ऊर्जा जीवन में कई समस्याओं का कारण बनती है।

आपको बता दें कि वास्तु शास्त्र जीवन के हर पहलू में लागू होता है, यह विवाह से भी संबंधित है और वास्तु शास्त्र वैवाहिक जीवन में अपना प्रभाव दिखाता है। यदि व्यक्ति अपने जीवन में सकारात्मक प्रभाव डालना चाहता है तो उसे इन चीजों को करना बंद करना होगा।

1. वास्तु के अनुसार अविवाहित लड़के-लड़कियां जिनकी शादी नहीं हो रही है, उन्हें दक्षिण और दक्षिण पश्चिम दिशा की ओर मुंह करके नहीं सोना चाहिए। इसके कारण जातक के विवाह में कई बाधाएं आती हैं।

2. वास्तु शास्त्र के अनुसार विवाह योग्य लड़कों को उन कमरों में सोना चाहिए जिनमें एक से अधिक दरवाजे हों। ऐसे कमरे में नहीं सोना चाहिए जहां हवा और रोशनी का प्रवेश कम हो। वास्तु के अनुसार ऐसे कमरे में सोने से जातक के विवाह में कई समस्याएं आती हैं।

3. काले रंग के कपड़े और अन्य चीजों का प्रयोग कम करना चाहिए। वास्तु शास्त्र के अनुसार काले रंग से आप जितना दूर रहें उतना ही अच्छा है।