Angkor Wat दुनिया का सबसे बड़ा हिंदू मंदिर है, लेकिन यहां कोई हिंदू नहीं है

दुनिया के कई देशों में एक प्रसिद्ध हिंदू मंदिर (Angkor Wat) है। एक ऐसा देश है जहां दुनिया का सबसे बड़ा हिंदू मंदिर और सबसे बड़ा धार्मिक स्मारक है, लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि वहां कोई हिंदू नहीं है। इस देश का ध्वज चिन्ह भी हिंदुओं का मंदिर है। हिंदू धर्म दुनिया का एकमात्र धर्म है, जो सबसे पुराना है। माना जाता है कि हिंदू धर्म 12,000 साल से भी ज्यादा पुराना है। हिंदू धर्म में मूर्ति पूजा और ध्यान का विशेष महत्व है। इस बात के कई प्रमाण हैं कि दुनिया के कई देशों में सनातन धर्म सबसे पहले था।

Angkor Wat

है। इसके अलावा यह दुनिया का सबसे बड़ा धार्मिक स्मारक भी है। यह कंबोडिया के अंगकोर (Angkor Wat) में स्थित है। अंगकोर सिमरीप शहर में मेकांग नदी के तट पर स्थित है। यह सैकड़ों वर्ग मील में फैला है। यह भगवान विष्णु का मंदिर है। पहले के शासकों ने यहां भगवान शिव के बड़े-बड़े मंदिर बनवाए थे। इसका पुराना नाम यशोदपुर था। इस मंदिर का निर्माण राजा सूर्यवर्मन द्वितीय के शासनकाल में 1112 से 1153 ई. इस मंदिर की तस्वीर कंबोडिया के राष्ट्रीय ध्वज में चित्रित है। यह दुनिया के सबसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में शामिल है और यूनेस्को की विश्व धरोहर में भी शामिल है।

सबसे बड़ा सवाल यह है कि कंबोडिया में दुनिया का सबसे बड़ा हिंदू मंदिर (Angkor Wat) है, लेकिन 100% हिंदू धर्म का पालन करने वाले हिंदू कहां गए? कंबोडिया में दुनिया का सबसे बड़ा हिंदू मंदिर है, लेकिन वहां हिंदू क्यों नहीं हैं? इतिहास के अनुसार यहां के लोगों ने दूसरे धर्मों को अपनाया है। इस समय इस देश में कुछ ही हिंदू बचे हैं, लेकिन दुनिया का सबसे बड़ा हिंदू मंदिर इसी देश में है।

कंबोडिया दक्षिण पूर्व एशिया का एक प्रमुख देश है और इसकी जनसंख्या लगभग 17 मिलियन है। पूर्वी एशिया में 5000 से 1 हजार साल पुराने पुराने मंदिरों की खोज की गई है। इन शोधों में भारत की प्राचीन समृद्ध संस्कृति की झलक देखने को मिली है। वैज्ञानिकों ने माना है कि हजारों सालों में समुद्र का स्तर करीब 500 मीटर बढ़ गया है। इससे यह सिद्ध हो गया कि राम-सेतु, द्वारका नगर जैसे स्थान आज भी विद्यमान हैं और इनसे जुड़े पात्र भी सत्य हैं। (Angkor Wat)

कहा जाता है कि सालों पहले कंबोडिया में हिंदू धर्म था। पहले इसका संस्कृत नाम कंबुज या कम्बोज था। कम्बोज की प्राचीन किंवदंतियों के अनुसार, कॉलोनी की नींव आर्यदेश के राजा कम्बु स्वयंभू द्वारा रखी गई थी। राजा कंबु स्वयंभू कंबोज भगवान शिव की प्रेरणा से देश में आए। उसने यहाँ के नाग जाति के राजा की सहायता से इस जंगली मरुस्थल पर राज्य की स्थापना की। नागराज के अद्भुत जादू के कारण, रेगिस्तान एक हरे-भरे, सुंदर भूमि में बदल गया। (Angkor Wat)

किंवदंतियों के अनुसार, कंबु ने नागराज की बेटी से शादी की और कंबुज वंश की नींव रखी। लेकिन यहां विदेशियों की नजर लग गई और उन्होंने यहां रहने वाले हिंदू लोगों को तलवार के आधार पर धर्म परिवर्तन करा दिया। यहां के लोग आज भी खुद को दिल से हिंदू मानते हैं। (Angkor Wat)

Jyotish Tips: सुख-समृद्धि और सौभाग्य में होगी भरपूर वृद्धि, तुरंत घर में लगाएं यह पौधा, पूरी करेंगे