Covid 4th Wave: भारत में जल्द ही पीक पर हो सकते हैं कोरोना के मामले, डॉक्टर्स ने जताई चिंता

भारत में कोविड 19 के नए XE वैरिएंट के बढ़ते केसों ने लोगों की चिंता बढ़ा दी है। खासकर राजधानी दिल्ली में हालात काफी चिंताजनक बने हुए हैं।

नई दिल्ली। भारत में कोविड 19 के नए XE वैरिएंट के बढ़ते केसों ने लोगों की चिंता बढ़ा दी है। खासकर राजधानी दिल्ली में हालात काफी चिंताजनक बने हुए हैं। यहां पिछले कई दिनों से कोरोना के मामलों में उछाल देखने को मिल रहा है। कोरोना के तेजी से बढ़ते केसों को देखते हुए दिल्ली के टॉप हॉस्पिटल्स के डॉक्टर्स आशंका जता रहे हैं कि आने वाले 10 से 15 दिनों में दिल्ली में कोरोना के मामले पीक पर होंगे लेकिन उसके तुरंत ही बाद ही इसमें गिरावट आने लगेगी।

COVID-19

गौरतलब है कि बीते दो हफ्तों से दिल्ली में हर दिन एक हजार से अधिक मामले दर्ज किए जा रहे हैं। सोमवार को, देश की टॉप मेडिकल रिसर्च बॉडी, इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने कहा कि देश में कोरोना के बढ़ते केसों को चौथी लहर के बजाय लोकल ट्रेंड के रूप में देखा जाना चाहिए। डॉक्टर्स का कहना है कि दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों के पीछे की वजह टेस्टिंगमें कमी होना है।

यही वजह है कि रोजाना कोरोना के नए मामले सामने आ रहे है। सफदरजंग अस्पताल के हेड कम्यूनिटी मेडिसिन जुगल किशोर कि मुताबिक दिल्ली में कोरोना का पॉजिटिव रेट अधिक होने के पीछे का कारण है अथॉरिटीज केवल फोकस्ड टेस्टिंग कर रही हैं। कहने का मतलब है कि सिर्फ उन्हीं लोगों के टेस्ट हो रही है जिनमें कोरोना के लक्षण दिखाई दे रहे हैं। ऐसे में उनके पॉजिटिव होने के चांसेज बढ़ जाते हैं।

उन्होंने कहा, ओमिक्रॉन के इस नए सब-वैरिएंट के लक्षण महज 3 से 5 दिनों में ही दिखाई दे जा रहे हैं। ऐसे में आने वाले 10 से 15 दिनों में दिल्ली में कोरोना के मामले पीक पर होंगे लेकिन उसके एक हफ्ते कि भीतर ही कम होने लगेंगे। उन्होंने कहा कि ओमिक्रॉन का यह नया सब-वैरिएंट संक्रामक हैं लेकिन इसके लक्षण काफी माइल्ड हैं लेकिन इसे भी लोग इसे हल्के में ना लें और पूरी सतर्कता बरतें।