दिल्ली हाई कोर्ट ने सलमान खुर्शीद की किताब पर कह दी ऐसी बात, कई लोगों को लग सकती है मिर्ची

निचली अदालत ने अंतरिम राहत से इनकार करते हुए कहा था कि लेखक और प्रकाशक को किताब लिखने और प्रकाशित करने का अधिकार है

दिल्ली उच्च न्यायालय ने गुरुवार को कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद की पुस्तक सनराइज ओवर अयोध्या: नेशनहुड इन आवर टाइम्स के प्रकाशन, प्रसार और बिक्री को रोकने के लिए एक याचिका खारिज कर दी। यह कहते हुए कि अगर लोग ‘इतना संवेदनशील महसूस’ कर रहे हैं तो हम क्या कर सकते है. इससे पहले निचली अदालत ने अंतरिम राहत से इनकार करते हुए कहा था कि लेखक और प्रकाशक को किताब लिखने और प्रकाशित करने का अधिकार है।

अदालत वकील विनीत जिंदल की एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिन्होंने दावा किया था कि पूर्व केंद्रीय मंत्री की किताब ‘दूसरों के विश्वास पर थोपती है’ क्योंकि यह हिंदुत्व की तुलना इस्लामिक स्टेट और बोको हराम जैसे कट्टरपंथी समूहों से करती है। जस्टिस यशवंत वर्मा ने कहा, “लोगों को किताब न खरीदने या इसे पढ़ने के लिए कहें। लोगों को बताएं कि यह बुरी तरह से लिखी गई है, कुछ बेहतर पढ़ें।”

याचिकाकर्ता के वकील ने दावा किया कि किताब से सार्वजनिक शांति भंग हो सकती है और शांति बनाए रखना सभी व्यक्तियों का कर्तव्य है। न्यायाधीश ने कहा, “अगर लोग इतना संवेदनशील महसूस कर रहे हैं तो हम क्या कर सकते हैं।”17 नवंबर को, यहां के एक अतिरिक्त सिविल जज ने हिंदू सेना के अध्यक्ष विष्णु गुप्ता द्वारा समाज के एक बड़े वर्ग की भावनाओं को कथित रूप से आहत करने के लिए पुस्तक के प्रकाशन, प्रसार और बिक्री को रोकने के लिए एक पक्षीय निषेधाज्ञा देने से इनकार कर दिया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *