Happy Dussehra: दशहरा के पावन पर्व पर अपने मित्रों को ऐसे भेजे शुभकामना संदेश

हर वर्ष आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को दशहरा का पावन त्योहार मनाया जाता है। इस वर्ष दशहरा का पावन पर्व आज 15 अक्टूबर दिन शुक्रवार को है।

हर वर्ष आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को दशहरा का पावन त्योहार मनाया जाता है। इस वर्ष दशहरा का पावन पर्व आज 15 अक्टूबर दिन शुक्रवार को है। दशहरा के दिन लोग बुराई के प्रतीक रावण, कुंभकर्ण एवं मेघनाद के पुतलों का दहन करते हैं और सा​थ ही अपने अंदर बुरी आदतों को दूर करने का प्रण लेते हैं। त्रेतायुग में भगवान श्रीराम ने आश्विन शुक्ल दशमी को रावण का वध किया था, वहीं मां दुर्गा इसी तिथि को महिषासुर का अंत कर महिषासुरमर्दिनि कहलाईं।

इन वजहों से हर वर्ष आश्विन शुक्ल दशमी को दशहरा या विजयादशमी का पर्व मनाया जाता है। आप भी इस पावन पर्व पर अपने मित्रों, परिजनों एवं शुभचिंतकों को दशहरा की बधाई एवं शुभकामना संदेश दें, ताकि वे भी अपनी बुराइयों पर विजय हासिल कर सफलता और तरक्की प्राप्त करें।
दशहरा की शुभकामना एवं बधाई संदेश-

1- आज आरंभ समय है सुखों का,

हो अंत आपके सारे दुखों का,

हो जाए खात्मा सारी बुराई का,

आने वाला वक्त हो बस अच्छाई का।

2- इससे पहले की दशहरे की शाम हो जाए,

मेरा मैसेज औरों की तरह आम हो जाए,

सारे मोबाइल नेटवर्क जाम हो जाएं,

और दशहरा विश करना आम हो जाए।

3- आज आया है दशहरा का है पावन त्योहार,

आपको हमेशा मिले खुशियां और बेशुमार प्यार,

करें मां दुर्गा और श्री राम आप पर कृपा अपार।

4- त्याग दी ख्वाहिशें कुछ अलग करने के लिए,
राम ने खोया बहुत कुछ श्रीराम बनने के लिए।

5- बुराई का होता है विनाश,

दशहरा लाता है उम्मीद की आस,

रावण की तरह आपके दुखों का हो नाश,

सफलता और तरक्की के साथ यह दशहरा हो खास।

6- इस देश में सत्य स्थापित कर,

हर बुराई को मिटाना होगा,

आतंकी रावण का दहन करने,

आज फिर राम को आना होगा।

7- अपने भीतर के रावण को जो खुद आग लगाएंगे,
सही मायने में वे ही आज दशहरा मनाएंगे।

8- दशहरा का पर्व है अच्छाई का प्रतीक,

बुराई की राह पर चलकर हार है निश्चित।
9- हर पल आपका जीवन हो सुनहरा,

घर आपके रहे सदा खुशियों का पहरा,

रहें आप कहीं भी जहां में,

आपके लिए शुभ हो इस साल का पावन दशहरा

10- इस दशहरा प्रण लेना होगा,

रावण नहीं राम बनकर रहना होगा,

बुराई के खिलाफ आवाज उठाना होगा,

11- अधर्म पर धर्म की जीत,

अन्याय पर न्याय की विजय,

असत्य पर सत्य की जीत,

बुराई पर अच्छाई की जय जयकार,

यही है दशहरा का त्योहार।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *