Astro Tips: अगर आप के घर में शंख नहीं है तो रखें, इसके बड़े फायदे है

नई दिल्ली: सनातन धर्म में शंख का विशेष महत्व है। हमारे शास्त्रों में भी शंख की पूजा लाभकारी बताई गई है। पूजा-पाठ से लेकर किसी अच्छे कार्य की शुरुआत शंख बजाकर की जाती है। मान्यता है कि शंख में देवताओं का वास होता है। शास्त्रों के अनुसार, शंख के मध्य में वरुण देव, पृष्ठ में ब्रह्मा जी और अग्र भाग में मां सरस्वती का निवास होता है।

मान्यता है कि घर में शंख रखने से वास्तु दोष से मुक्ति के साथ ही सकारात्मक ऊर्जा आती है। कहते हैं कि जिस घर में शंख होता है, वहां धन और अरोग्य की प्राप्ति होती है। कहा जाता है कि घर के जिस हिस्से में वास्तु दोष होता है, वहां शंख रखने भर से वास्तु दोष खत्म हो जाता है।

जानिए घर मे शंख होने और पूजा में बजाने के इसके क्या है फायदे-

मान्यता है कि शंख में देवताओं का वास होता है। ऐसे में जिस घर में शंख होता है, वहां मां लक्ष्मी का निवास होता है।
माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु शंख को अपने हाथों में धारण करते हैं। ऐसे में शंख को बजाना शुभ माना जाता है।
पुराणों में बताया गया है कि शंख में जलभर रखने और छिड़कने से वातारण शुद्ध होता है।
ऐसी मान्यता है कि शंख की पूजा करने से मनोकामनाएं पूरी होती हैं और नकारात्मक ऊर्जा समाप्त होती है।
कहते हैं कि शंख में कैल्सियम, फास्फोरस और गंधक जैसे गुणकारी तत्व पाए जाते हैं। शंख में रखे पानी का सेवन करने से हड्डियां मजबूत होती हैं।
माना जाता है कि शंख के जल से भगवान शिव और मां लक्ष्मी का अभिषेक करने से वह प्रसन्न होते हैं और उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है।
वास्तु शास्त्र के अनुसार, शंख को नियमित तौर पर बजाना सेहत के लिए लाभकारी माना गया है। मान्यता है कि शंख बजाने से हृदय संबंधी बीमारी होने का खतरा कम होता है।