अगर दुश्मन को देना चाहते हैं मात तो आचार्य चाणक्य की इन बातों का हमेशा रखें ध्यान

अगर आप दुश्मन को मात देना चाहता हैं तो आपको आचार्य चाणक्य की कुछ बातों का हमेशा ध्यान रखना चाहिए। आचार्य चाणक्य ने अपने नीति शास्त्र ग्रंथ में ऐसी कई बातों का जिक्र किया है, जिससे कई समस्याओं का हल बताया है। 

अगर आप दुश्मन को मात देना चाहता हैं तो आपको आचार्य चाणक्य की कुछ बातों का हमेशा ध्यान रखना चाहिए। आचार्य चाणक्य ने अपने नीति शास्त्र ग्रंथ में ऐसी कई बातों का जिक्र किया है, जिससे कई समस्याओं का हल बताया है। आचार्य ने एक श्लोक के जरिए बताया है आखिर शत्रु यानी दुश्मन को मात देने के लिए किन बातों का ध्यान रखना जरूरी होता है। चाणक्य कहते हैं कि व्यक्ति को दुश्मन पर विजय हासिल करने के लिए कुछ बातें कभी नहीं भूलनी चाहिए।

Chanakya Niti 1

अनुलोमेन बलिनं प्रतिलोमेन दुर्जनम्
आत्मतुल्यबलं शत्रु, विनयेन बलेन वा।

इस श्लोक के जरिए चाणक्य कहते हैं कि व्यक्ति को दुश्मन को मात देने के लिए उससे जुड़ी हर जानकारी हासिल करनी चाहिए। आपको आपके दुश्मन की ताकत का अंदाजा होना जरूरी है। जिसके हिसाब से आप दुश्मन को हराने के लिए अपनी रणनीति बना सकते हैं।

चाणक्य कहते हैं कि अगर दुश्मन आपसे ज्यादा बलवान और शक्तिशाली है, तो उसकी पूरी जानकारी हासिल करने के बाद उसी के अनुकूल आचरण करना चाहिए। अगर दुश्मन कमजोर और छल करने वाला है तो इसके विपरीत व्यवहार करना चाहिए। अगर दुश्मन आपकी तरह ही बलवान है तो आप उसे अपनी नीतियों में फंसाइए ताकि वह बाहर न निकल सके।

नीति शास्त्र में चाणक्य कहते हैं कि अगर कोई आपका अपमान कर रहा हो तो, गुस्सा जाहिर करने की बजाए चुप रहना ताहिए। चाणक्य कहते हैं कि मौन सबसे बड़ी ताकत में से एक है। चाणक्य कहते हैं कि चुप रहने वाले व्यक्ति के स्वभाव और कमजोरियों का अंदाजा लगा पाना मुश्किल होता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *