रोचक: ऐसा होता है कि जिन लोगों के प्रेम संबंध अधिक होते हैं उनकी हथेली का रंग, कर्मों के अनुसार बदलता रहता है

नई दिल्ली: बहुत कम लोग जानते हैं कि कर्म के आधार पर हाथों की रेखाएं बदलती हैं और इसके साथ ही हथेली का रंग भी बदलता है. जी हाँ, वहीं लोगों का ध्यान इस तरफ नहीं जा पाता, लेकिन हमारे हाथ की हथेली बहुत कुछ कहती है. आपको बता दें कि हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार यह एक प्राकृतिक प्रक्रिया है जिसका संबंध हमारे कर्मों से है। तो आइए जानते हैं इसके बारे में।

जी हां, हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार अगर कोई व्यक्ति हर काम जल्दबाजी में करता है या अचानक किसी के पास बहुत सारा पैसा आ जाता है तो उसकी हथेली का रंग बदलने लगता है। इसी के साथ ऐसी मान्यता है कि ऐसे लोगों की हथेली का रंग लाल होता है. इतना ही नहीं अगर किसी व्यक्ति को अचानक से डिप्रेशन की समस्या हो जाती है या उसका स्वभाव रूखा होने लगता है तो ऐसे लोगों की हथेली का रंग काला होने लगता है।

यह भी कहा जाता है कि अगर कोई व्यक्ति दूसरों को परेशान करने का तरीका ढूंढ लेता है या वह एक से अधिक प्रेम प्रसंगों में रहता है, तो ऐसे लोगों की हथेली भूरी होती है। आपको बता दें कि हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार यदि कोई व्यक्ति हर समय आलसी रहता है तो उसकी हथेली का रंग पीला हो जाता है। इसके अलावा जो लोग दूसरों का सम्मान नहीं करते हैं उनकी भी हथेलियां पीली होती हैं।