Health के लिए हंसना होता है बेहद फायदेमंद, ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ें

डॉ. तरुण साहनी ने बताया कि एंडॉर्फिन एक प्रकार का हेप्पी हार्मोन है। यह आपको खुश और तनाव मुक्त रहने के लिए प्रेरित करता है। यदि इसका संतुलन बिगड़ जाए या फिर यह हार्मोन शरीर में कम होने लगे तो कुछ डिप्रेसिव हार्मोन इसपर ओवटेक कर सकते हैं।

हेल्थ डेस्क। इंसान अपनी रोज की स्ट्रेस के कारण खुश रहना भूल जाता हैं जो हमारे जीवन को काफी चिंता जनक बना देता हैं। सेहतमंद (Health News) रहने के लिए खुश और स्ट्रेस फ्री रहना बेहद जरूरी है। क्या आपने कभी सोचा है कि हम खुश कैसे रहते हैं। क्या आप जानते हैं शरीर में 4 प्रकार के हैप्पी हार्मोन्स होते हैं। जो हमें खुश रहने में मदद करते हैं। डोपामाइन, ऑक्सीटॉक्सीन, सिरोटोनिन और एंडॉर्फिन हार्मोन।

Portrait of businesswoman, smiling - Health

यह चारों हार्मोन्स हमारी शरीर में रिलीज होते हैं, जिनके संतुलन से हम खुश रहते हैं। स्ट्रेस फ्री रहने के लिए एंडोर्फिन हार्मोन का संतुलित रहना जरूरी होता है। आज हम इसी विषय पर बात करेंगे कि एंडोर्फिन का संतुलन जरूरी क्यों है। और इसे बढ़ाने के कुछ तरीकों के बारे में। (Health News)

कई लोग इसे प्राकृतिक परिवर्तन मानते हैं तो कुछ लोग हार्मोन के घालमेल को ठीक तरह से समझ ही नहीं पाते हैं। इसी विषय पर विस्तार से जानने के लिए हमने दिल्ली के अपोलो हॉस्पिटल के इंटर्नल मेडिसिन के डायरेक्टर डॉक्टर तरुण साहनी से बातचीत की।  तो चलिए जानते हैं एंडॉर्फिन हार्मोन के बारे में। डॉ. तरुण साहनी के अनुसार एंडॉर्फिन एक हेप्पी हार्मोन है, जो शरीर को गुड फील या फिर अच्छा महसूस कराता है।

यह आपके मन को खुशी देने का काम करता है। यह ब्रेन में पाए जाने वाला एक प्रकार का कैमिकल है, जो आपको रिलैक्स महसूस कराता है। यह एक पेप्टीसाइड्स का समूह है, जिसका उत्पादन आपके पिट्यूटरी ग्लैंड से होता है नर्वस सिस्टम के साथ संतुलित रहता है। यह शरीर के लिए प्राकृतिक दर्द निवारक के तौर पर कार्य करता है। (Health News)

इसे बढ़ाकर स्ट्रेस फ्री रहना आप ही के हाथ में है। दिनचर्या में बदलाव लाकर भी इसे जनरेट किया जा सकता है। एंडॉर्फिन का संतुलन क्यों है जरूरी

डॉ. तरुण साहनी ने बताया कि एंडॉर्फिन एक प्रकार का हेप्पी हार्मोन है। यह आपको खुश और तनाव मुक्त रहने के लिए प्रेरित करता है। यदि इसका संतुलन बिगड़ जाए या फिर यह हार्मोन शरीर में कम होने लगे तो कुछ डिप्रेसिव हार्मोन इसपर ओवटेक कर सकते हैं। जिससे आप खुश रहने की बजाय अकेला और डिप्रेस्ड महसूस करने लगते हैं। (Health)

यही नहीं यह हार्मोन कम हो जाने से व्यक्ति को दर्द, एंग्जाइटी, अनिद्रा और गलत आदतों की लत भी लग सकती है। इसलिए शरीर में एंडॉर्फिन हार्मोन का संतुलन हमेशा बरकरार रहना चाहिए। इसे बढ़ाना व संतुलित रखना बेहद आसान होता है। डिप्रेशन या तनाव से जूझ रहे व्यक्तियों को तो खासतौर पर अपने हार्मोन को बढ़ाने पर ध्यान देना चाहिए।

1. योग 

डॉ. तरुण साहनी के मुताबिक एंडॉर्फिन हार्मोन को कई तरीकों से बढ़ाया जा सकता है। जिसमें से योग और एक्सरसाइज सबसे प्रभावी होता है। इसपर हुए एक शोध में यह पाया गया कि रोजाना आधे घंटे की कसरत कर आप इस हार्मोन को बढ़ा सकते हैं। इसके लिए आप हाई इंटेन्सिटी इंटर्वल ट्रेनिंग करें। (Health News)

यह ज्यादा प्रभावशाली होती है। वहीं इसे बढ़ाने के लिए रनिंग, स्विमिंग आदि भी की जा सकती है। जब आप एक्सरसाइज करते हैं तो आपके ब्रेन में एंडॉर्फिन रिलीज होता है, जो ब्रेन के साथ मिलकर आपके दर्द और स्ट्रेस को कम करते हैं।

2. दोस्तों के साथ हंसते रहें (Health)

हंसना सेहत (Health News) के लिए फायदेमंद होता है यह तो आपने सुना ही होगा। हंसना और खुश रहना हर मर्ज से बचने का रास्ता है। जब आप हंसते या फिर खुश रहते हैं तो आपकी शरीर में एंडॉर्फिन हार्मोन तेजी से रिलीज और एक्टिवेट रहते हैं। ऐसा करने से उनका स्तर नीचे नहीं आता है।

बैज्ञानिक अनुसार यह भी यह पाया गया है कि ग्रुप बनाकर या दोस्तों के साथ ठहाके लगाने से एंडॉर्फिन में इजाफा होता है। यही नहीं रिसर्च यह भी कहती है कि हंसने से गुदगुदी की तरंगें उत्पन्न होती हैं, जो सीधा आपके एंडॉर्फिन को बढ़ाती हैं।

बढ़ानी है आंखों की रोशनी तो दूध के साथ करें इस चीज का सेवन, मिलेगा बहुत आराम

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *