अधूरी ही रह गई मिल्खा सिंह की ये अंतिम ख्वाहिश, जानकर हैरान रह जाएंगे आप

जब तक प्राण रहे भारत के खेल जगत से जुड़ा एक सपना हमेशा देखते रहे

भारत के महान एथलीट मिल्खा सिंह का 91 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। उन्होंने चंडीगढ़ के पीजीआई अस्पताल में अंतिम सांस ली। जब तक प्राण रहे भारत के खेल जगत से जुड़ा एक सपना हमेशा देखते रहे। अफसोस की उनके अलविदा कहने तक भी उनका सपना पूरा नहीं हो सका।

Milkha Singh 1

60 वर्ष पहले मिल्खा सिंह ओलंपिक पदक जीतने से चूक गए थे। इसके बाद हमेशा उनका सपना रहा कि भारत ओलंपिक में गोल्ड जीते। एक मर्तबा युवा एथलिटों के एक कार्यक्रम में संबोधित करते हुए मिल्खा ने ये ख्वाहिश व्यक्त की थी। सिंह ने कहा था कि उनका सपना है कि भारत को ओलंपिक में गोल्ड मिले।

मिल्खा सिंह ने कहा था कि मरने से पहले मैं ऐसा होते देखना चाहता हूं। आपको बता दें भारत अब तक ओलंपिक में एथलेटिक्स में कोई पदक नहीं जीत सका है। अपने जीतेजी मिल्खा सिंह ने कभी खेल और प्लेयर्स से दूरी नहीं बनाई।

वो हमेशा युवा खिलाड़ियों से मिलते रहे और उनमें जोश भरते रहे। इसी दौरान अक्सर उन्होंने रोम ओलंपिक्स को भी याद किया। रोम ओलंपिक को याद करते हुए वो अक्सर यही कहा करते थे कि वो जिस गौरव को हासिल करने से चूक गए उसे दूसरे नौजवानों को हासिल करने की कोशिश करनी चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *