प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 70वें जन्मदिवस के उपलक्ष्य में सेवा सप्ताह के तहत दिव्यांगजनों को उपकरण प्रदान करती राज्यपाल बेबी रानी मौर्य एवं मसूरी विधायक गणेश जोशी। जानिए

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 70वें जन्मदिवस के उपलक्ष्य में सेवा सप्ताह के तहत दिव्यांगजनों को उपकरण प्रदान करती राज्यपाल बेबी रानी मौर्य एवं मसूरी विधायक गणेश जोशी, साथ में एनआईईवीपीडी के निदेशक डा0 हिम्मांशु दास, कैंट बोर्ड सीईओ तनु जैन।

देहरादून 16 सितम्बर: बुधवार को देहरादून के गढ़ी कैंट स्थित शहीद दुर्गामल्ल पार्क में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 70वें जन्मदिवस (17 सितम्बर) के उपलक्ष्य में सेवा सप्ताह के तहत दिव्यांगजन सहायता शिविर में 70 दिव्यांगजनों को दिव्यांगता से सम्बन्धित उपकरण प्रदान किये गये। इन उपकरणों में मुख्य रुप से 04 ट्राई साइकिल, 06 व्हीलचेयर, 19 कान की मशीनें, 17 चश्में, 20 छड़ी, 04 जोड़ी बैशाखी प्रदान किये गये और 13 कैलिपर की नाप ली गयी।


बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित सुबे की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने अमर शहीद दुर्गामल्ल स्मारक में पुष्पाजंलि अर्पित करने के बाद कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि हम किस रुप और किस भाव से दिव्यांगों की सेवा कर सके, इसका हम सबको विशेष ध्यान देना चाहिए। दिव्यांगजनों की पीड़ा और दर्द हमको ही समझना है। उन्होनें विधायक जोशी के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि उनके द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस के एक दिवस पूर्व दिव्यांगजनों की सेवा के लिए लगाये गया शिविर दिव्यांग कल्याण के लिए लाभ प्रदान करने वाला है।

ने कहा कि दिव्यांजनों को भोजन करवाने से हमारी तरक्की होती है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस पर तोहफा अलग प्रकार से देना है। हमें मास्क का प्रयोग करना है, सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना है और सामाजिक दूरी का विशेष ध्यान देना है। राज्यपाल ने छावनी परिषद की सीईओ एवं राष्ट्रीय दृष्टि दिव्यांगजन सशक्तिकरण संस्थान के निदेशक को भी बधाई दी।
मसूरी विधायक गणेश जोशी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 70वें जन्मदिवस को देश भर में 14 सितम्बर से 20 सितम्बर तक सेवा सप्ताह के रुप में मनाया जा रहा है, जिसके तहत विभिन्न सामाजिक सरोकारों से जुड़े कार्यक्रम आयोजित करवाये जा रहे हैं। उन्होनें कहा कि दिव्यांगों की उचित सम्मान देने का काम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया है। पहले दिव्यांग व्यक्तियों को विकलांग नाम से पुकारा जाता था किन्तु प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के वर्ष 2016 के एक निर्णय के बाद दिव्यांग नाम से पुकारा जाने लगा। छावनी परिषद देहरादून की मुख्य अधिशासी अधिकारी तनु जैन ने धन्यवाद देते हुए कहा कि कैंट बोर्ड दिव्यांगजनों की सहातया के लिए हमेशा तत्पर रहता है। उन्होनें राज्यपाल को तुलसी का पौंधा भी भेंट किया।
इस अवसर पर राष्ट्रीय दृष्टि दिव्यांगजन सशक्तिकरण संस्थान के निदेशक डा0 हिग्मांशु दास, विष्णु प्रसाद, पूनम नौटियाल, राजीव गुरुंग, राज्यमंत्री टीडी भूटिया, संध्या थापा, ज्योति कोटिया, मीनू क्षेत्री, वंदना बिष्ट, अनुज रोहिला, संचालक राहुल रावत, सुरेन्द्र राणा आदि उपस्थित रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *