भोलेनाथ की महिमा देश ही नहीं विदेशों में भी दिखती है, विदेशों में 6 प्रसिद्ध मंदिर

भगवान भोलेनाथ की महिमा देश ही नहीं विदेशों में भी देखी जाती है। भोलेनाथ की पूजा न केवल भारत में बल्कि भारत के बाहर दुनिया के विभिन्न हिस्सों में की जाती है। विदेशों में भगवान शिव के कुछ मंदिर बहुत प्राचीन और पौराणिक हैं, जिनके दर्शन करने के लिए दुनिया भर से भोला-भाला श्रद्धालु और पर्यटक आते हैं।

नेपाल का पशुपतिनाथ मंदिर:- नेपाल में बागमती नदी के तट पर काठमांडू में स्थित यह भारत से बाहर बना सबसे पुराना भगवान शिव मंदिर है। यह मंदिर यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची में आता है। इस मंदिर में दिखती है महाशिवरात्रि पर्व की महिमा, महाशिवरात्रि पर यहां करीब पांच लाख निर्दोष भक्तों ने पूजा की।

भारत के बाहर मलेशिया का रामलिंगेश्वर मंदिर :- यह मंदिर मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर में स्थित है। भगवान शिव के इस प्रसिद्ध मंदिर में हमेशा निर्दोष भक्तों का तांता लगा रहता है। सूत्रों के मुताबिक, 2012 में मलेशिया सरकार ने मंदिर और आसपास की जमीन को मंदिर का प्रबंधन करने वाले ट्रस्ट को सौंप दिया था। अब यह ट्रस्ट ही मंदिर का रखरखाव और प्रबंधन करता है।

भारत के बाहर इंडोनेशिया का प्रम्बानन मंदिर:- इंडोनेशिया के जावा द्वीप पर स्थित है। प्रम्बानन मंदिर 9वीं शताब्दी का एक प्राचीन मंदिर है। यह लगभग 17 वर्ग किमी के क्षेत्र में मोटा है, इस मंदिर की खास बात यह है कि यह मंदिर भारत के बाहर बने सबसे बड़े शिव मंदिरों में से एक है। यूनेस्को ने इस मंदिर को विश्व धरोहर की श्रेणी में रखा है।

मॉरीशस के सागर भोलेनाथ का मंदिर:- इस शिव मंदिर का निर्माण वर्ष 2007 में किया गया है, जिसका अर्थ है कि यह कोई प्राचीन मंदिर नहीं बल्कि एक नया मंदिर है। लेकिन आज यह मंदिर मॉरीशस का खास मंदिर बन गया है। यह मंदिर मॉरीशस में रहने वाले हिंदुओं का पवित्र धार्मिक स्थल है। लोगों को अपनी ओर आकर्षित करने वाले इस मंदिर का सबसे बड़ा आकर्षण मंदिर के प्रांगण में बनी भगवान शिव की 108 फीट ऊंची कांस्य प्रतिमा है।

पाकिस्तान का कटास राज मंदिर :- पाकिस्तान में एक प्राचीन भोलेनाथ मंदिर भी है। यह पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के चकवाल जिले में स्थित है और इस मंदिर को कटास राज मंदिर के नाम से जाना जाता है। पुजारी का कहना है कि इस मंदिर का निर्माण छठी शताब्दी से नौवीं शताब्दी के बीच हुआ था। भारत से 125 यात्रियों का एक दल यहां महाशिवरात्रि पर्व में पूजा-अर्चना करने गया था।

श्रीलंका का मुन्नेश्वरम मंदिर:- यह मंदिर श्रीलंका के एक गांव मुन्नेश्वरम में स्थित है। यहां भोलेनाथ के साथ मां काली का मंदिर भी है। इस मंदिर की खास बात यह है कि यह मंदिर बेहद खूबसूरत और भव्य है। दक्षिण भारतीय द्रविड़ शैली में निर्मित, श्रीलंका और भारत के लाखों भक्त भोलेनाथ के दर्शन के लिए साल भर इस मंदिर में आते हैं।