अरविंद केजरीवाल ने पूछा सवाल, 21 जून के बाद मोदी सरकार कहां से देगी वैक्सीन

सीएम केजरीवाल ने देश में वैक्सीन की कमी पर की बात दोहराई, उन्होंने कहा कि इस समय देश मे वैक्सीन की बड़ी समस्या है।

नई दिल्ली॥ कोविड आपदा के चलते अपने बयानों से जनता की सेवा कर रहे दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को अब नई बात परेशान कर रही है। उन्होंने पूछा है कि ‘मोदी सरकार ने 21 जून से वैक्सीन देने की बात कही है। मगर 21 जून के बाद वैक्सीन आएगी कहां से! ये बड़ा सवाल है।’

cm kejriwal 123

सीएम केजरीवाल ने गुरुवार को सिरसपुर स्थित नवनिर्मित ऑक्सीजन स्टोरेज सेंटर के निरीक्षण के दौरान कहा कि ‘यह अच्छा है कि मोदी सरकार ने 21 जून से वैक्सीन देने की बात कही है। हलांकि यह निर्णय उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय के दबाव के बाद लिया है। मगर 21 जून के बाद वैक्सीन आएगी कहां से! ये बड़ा सवाल है।’ इस दौरान सीएम के साथ उपसीएम मनीष सिसोदिया और स्वस्थ मंत्री सत्येन्द्र जैन भी मौजूद थे।

भले ही राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना के मामलों में कमी देखने को मिल रही हो, मगर दिल्ली सरकार ने कोरोना की सम्भावित तीसरी लहर पर तैयारी शुरू कर दी है। दिल्ली सरकार पिछले अनुभवों को ध्यान में रखते हुए ऑक्सीजन की प्रचुर मात्रा में व्यवस्था करने पर ध्यान दे रही है।

इसी क्रम में गुरुवार को सीएम अरविंद केजरीवाल ने सिरसपुर स्थित ऑक्सीजन स्टोरेज सेंटर का दौरा किया। यहां 57 मीट्रिक टन ऑक्सीजन भंडारण क्षमता का क्रायोजेनिक टैंक लगाया जा रहा है। साथ ही 12.5 टन प्रतिदिन की उत्पादन क्षमता वाला ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट भी बन रहा है।

इस दौरान सीएम केजरीवाल ने देश में वैक्सीन की कमी पर की बात दोहराई, उन्होंने कहा कि ‘ इस समय देश मे वैक्सीन की बड़ी समस्या है। यह अच्छी चीज है कि मोदी सरकार ने 21 जून से वैक्सीन देने की बात कही है। यह निर्णय उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय के दबाव के बाद लिया है। मगर 21 जून के बाद कहां से आएगी वैक्सीन! ये बड़ा सवाल है। अगर वैक्सीन हमें उपलब्ध हो जाये तो हमने जो मॉडल दिल्ली में बनाया है (‘जहां वोट वहां वैक्सीनेशन’) उसे अगर पूरे देश में लागू किया जाए तो दो से तीन महीने में पूरे देश में वैक्सीनेशन किया जा सकता है।

सीएम ने कहा कि कोरोना की संभावित तीसरी लहर की तैयारी के लिए शहर में अब तक 171 मीट्रिक टन (एमटी) की कुल क्षमता वाले तीन ऑक्सीजन भंडारण संयंत्र स्थापित किए गए हैं। “हमने अब तक 57 एमटी प्रत्येक के तीन ऑक्सीजन स्टोरेज प्लांट स्थापित किए हैं, जिनकी कुल क्षमता 171 एमटी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *