यहां चुनाव में BJP को बढ़त, कांग्रेस को मिलेगी 11 से 12 सीटें

इससे यह तय होगा कि राज्य में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सत्ता में बने रहेंगे या फिर कमलनाथ दोबारा सत्ता में आएंगे।

मध्यप्रदेश में विधानसभा की 28 सीटों पर उपचुनाव के लिए गत तीन नवम्बर को मतदान संपन्न हो चुका है और 10 तारीख को मतगणना के साथ नतीजे घोषित किये जाएंगे। मध्यप्रदेश में पहली बार इतनी अधिक सीटों पर एक साथ उपचुनाव हुए हैं और इसके नतीजे प्रदेश की सरकार का भविष्य तय करेंगे। इससे यह तय होगा कि राज्य में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सत्ता में बने रहेंगे या फिर कमलनाथ दोबारा सत्ता में आएंगे।

BJP

इसी बीच टीवी चैनलों में एग्जिट पोल आने शुरू हो गए हैं। इनमें भाजपा को बढ़त मिल रही है। विभिन्न चैनलों द्वारा दिखाये जा रहे एग्जिट पोल के अनुसार, भाजपा को प्रदेश की 28 सीटों में 16 से 18 मिलने की संभावना जताई जा रही है, जबकि कांग्रेस के खाते में 10 से 12 सीटें जा सकती हैं। अगर नतीजे एग्जिट पोल के पोल के मुताबिक हुए तो प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की सरकार बनी रहेगी, जबकि कांग्रेस को विपक्ष की भूमिका निभानी पड़ेगी। एग्जिट पोल के नतीजों से भाजपा में जहां उत्साह देखने को मिल रहा है तो वहीं कांग्रेस इसे नकार रही है।

उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश में इसी साल मार्च के महीने में सत्ता परिवर्तन हुआ था। ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक 22 विधायकों द्वारा कांग्रेस से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल होने से कमलनाथ सरकार गिर गई थी और शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में भाजपा ने सरकार बनाई। इसके बाद कांग्रेस के तीन और विधायक पार्टी छोड़ चुके हैं, जबकि तीन सीटें विधायकों के निधन से खाली हुई हैं। इस प्रकार प्रदेश में 28 सीटों पर उपचुनाव हुए।

वर्तमान में मध्यप्रदेश की 230 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा के 107, कांग्रेस के 87, बसपा के 02, सपा का एक और चार निर्दलीय विधायक हैं, जबकि अभी हाल में कांग्रेस के एक विधायक द्वारा इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल होने के कारण विधानसभा की एक सीट रिक्त है। इस प्रकार सरकार बनाने के लिए बहुमत का आंकड़ा 115 का है। भाजपा को बहुमत हासिल करने के लिए आठ सीटों की जरूरत है और एग्जिट पोल के नतीजे भाजपा को 16 से 18 सीटें दे रहे हैं। यानी प्रदेश में भाजपा सत्ता में बनी रहेगी।

वहीं, कांग्रेस 20 से 22 सीटें जीतने का दावा कर रही थी, जबकि एग्जिट पोल उसे 10 से 12 सीटें दे रहे हैं। ऐसे में कांग्रेस सत्ता में वापसी नहीं कर पाएगी और उसे विपक्ष में ही बैठना पड़ेगा। लेकिन पार्टी के नेता एग्जिट पोल के नकार रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की ओर से एग्जिट पोल पर प्रतिक्रिया नहीं दी गई, लेकिन उनके मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने कहा है कि हमें जनता के पोल पर विश्वास है। हम एग्जिट पोल के नतीजों को नहीं मानते। दस नवम्बर को नतीजे आने दीजिये, कांग्रेस 28 में से 28 सीटें जीत रही है।

प्रदेश भाजपा के मुख्य प्रवक्ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय का कहना है कि एग्जिट पोल भाजपा के पक्ष में नतीजे बता रहा हैं। जहां तक सीटों की बात है तो हमारे फीडबैक के मुताबिक, सभी 28 सीटों पर हम जीतने की स्थिति में हैं। हमें आशा है कि हमारी अपेक्षा के अनुरूप ही नतीजे आएंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *