UP: चार नामी गिरामी निजी अस्पतालों में सभी रेफर कोरोना मरीजों की मौत

इन प्राइवेट अस्पतालों में जांच और इलाज में भारी लापरवाही की गई। ऐसे अस्पतालों से लगातार इलाज में लापरवाही की शिकायतें भी आ रही थी।

लखनऊ। राजधानी के निजी अस्पतालों में कोरोना के रेफर केसेज के मामले में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। शहर के चार नामी प्राइवेट अस्पतालों में रेफर किए गए 48 कोरोना मरीजों की जिंदगी बच नहीं सकी।

Private kovid hospitals

मतलब साफ है कि इन प्राइवेट अस्पतालों में जांच और इलाज में भारी लापरवाही की गई। ऐसे अस्पतालों से लगातार इलाज में लापरवाही की शिकायतें भी आ रही थी। जिला प्रशासन ने उन शिकायतों का संज्ञान लिया है और शहर के चार नामी गिरामी अस्पतालों को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण तलब किया है।

उन चार अस्पतालों में जिन्हें डीएम अभिषेक प्रकाश ने नोटिस जारी किए हैं। उनमें मेयो, चरक, चंदन और अपोलो हास्पिटल शामिल हैं। यह चारो अस्पताल निजी क्षेत्र में इलाज के लिए जाने जाते हैं। आपको बता दें कि नान कोविड अस्पताल से कोविड अस्पताल भेजे गए मरीजों में से 10 मरीज चरक अस्पताल भेजे गए थे। इसके अलावा मेयो हास्पिटल में 10, चंदन में 11 और अपोलो हास्पिटल में 17 कोरोना संक्रमित मरीज भेजे गए। इन मरीजों की जान नहीं बच सकी।

गौरतलब है कि मंडलायुक्त रंजन कुमार और डीएम अभिषेक प्रकाश ने बीते दिन गोमती नगर स्थित मेयो अस्पताल का जायजा लिया। मरीजों और तीमारदारों से बात की और कहा कि जो पैसा हास्पिटल में जमा करें। उसका बिल अपने पास रखें। पैसे वसूली की शिकायत कंट्रोल रूम में करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *