आंध्रप्रदेश में इस वजह से बढ़ी Donkey Meat की डिमांड, कीमत इतनी की जानकर उड़ जायेंगे आपके होश!

गधों का इस्तेमाल अधिकतर सामान ढोने के लिए ही किया जाता रहा है और भारत में खाने के लिए इनके मांस (Donkey Meat) का उपयोग बहुत कम ही देखा गया है, लेकिन मांस के लिए आंध्रप्रदेश में गधों के कत्ल के चलते हालात अब भयावह होते जा रहे हैं। प्रदेश में गधे के मांस की लोकप्रियता होने से बड़े स्तर पर हत्या की जा रही है, जिससे गधे अब राज्य में गधे विलुप्त होने की कगार पर भी पहुंच गये हैं।

नई दिल्ली। आंध्रप्रदेश में अचानक से गधों की डिमांड बढ़ गयी है जिसके कारण यहाँ गधे पूरी तरह से विलुप्त होने की कगार पर हैं। गधों की घटती संख्या के पीछे उनके मांस के लिए उनकी हत्या को मुख्य कारण बताया जा रहा है। खबर के मुताबिक आंध्रप्रदेश के पश्चिम गोदावरी, कृष्णा, प्रकाशम और गुंटूर जिलों से गधों को मांस (Donkey Meat) के लिए अवैध रूप से कत्ल किये जाने की खबरें सामने आ रही हैं।

Donkey Andhrapradesh

वहीँ मांस (Donkey Meat) के लिए गधों की अवैध और अंधा-धुंध हत्या पर रोक लगाना प्रदेश सरकार के लिए एक बड़ी चुनौती बन गया है। रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2012 से वर्ष 2019 के बीच में देश में गधों की कुल आबादी में लगभग 60 फीसदी की गिरावट देखी गई है। वहीँ वर्ष 2019 में आंध्रप्रदेश में गधों की कुल आबादी मात्र 5 हजार ही रह गई थी।

गधे के गोबर से मसाला बनाने वाला कारखाना सील, मुखिया इस पार्टी से का है नेता

हालाँकि गधों का इस्तेमाल अधिकतर सामान ढोने के लिए ही किया जाता रहा है और भारत में खाने के लिए इनके मांस (Donkey Meat) का उपयोग बहुत कम ही देखा गया है, लेकिन मांस के लिए आंध्रप्रदेश में गधों के कत्ल के चलते हालात अब भयावह होते जा रहे हैं। प्रदेश में गधे के मांस की लोकप्रियता होने से बड़े स्तर पर हत्या की जा रही है, जिससे गधे अब राज्य में गधे विलुप्त होने की कगार पर भी पहुंच गये हैं।

यहाँ गधे मेले की शुरूआत शाहरुख़-सलमान-रणवीर व कटरीना नाम के गधों की कीमत जानकर दंग रह जायेंगे आप!

आपको बता दें कि गधों को भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) 2011 के अनुसार, ‘खाद्य जानवर’ के रूप में पजीकृत नहीं किया गया है। ऐसे में दोषियों पर कार्रवाई हो सकती है। कानूनों के बाद भी गधे का मांस (Donkey Meat) खुलेआम बेचा जा रहा है और वो भी भारी कीमतों पर। गधों के मांस की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए व्यवसायी अवैध तरीकों से ट्रकों में जानवरों को ले जा रहे हैं और प्रत्येक को 10 से 15000 रुपए में खुलेआम बेच रहे हैं। वहीँ बाजार में गधों का मांस करीब 600 रुपए किलो बिक रहा है।

7 फेरों से पहले फौजी दूल्हे ने रखी ऐसी डिमांड कि उड़े सभी के होश, फिर दुल्हन ने किया ये काम

गधे मांस (Donkey Meat) को लेकर कई बीमारियों के दूर होने का दावा किया जा रहा है। आंध्रप्रदेश में लोगों का मानना है कि गधे का मांस कई स्वास्थ्य समस्याओं को दूर कर सकता है। लोगों का यह मानना है कि इसे खाने से सांस की समस्या दूर हो सकती है। यह भी दावा किया जाता है कि गधे का मांस खाने से यौन क्षमता में भी बढ़ोतरी होती है।

यहां पुलिस ने गाय का 250 किलोग्राम मांस किया बरामद, चार आरोपी गिरफ्तार

हालांकि चिकित्स्कीय विशेषज्ञों की मानें तो गधों के मांस (Donkey Meat) में औषधीय गुण की बातें बेतुकी हैं। यह अभी तक सिद्ध नहीं हुआ है कि गधे के मांस से यौन शक्ति में इजाफा होता है। स्वयं सेवी संस्थाओं से जुड़े कई पशु अधिकार कार्यकर्ताओं ने गधों के मांस अवैध व्यवसाय के विरुद्ध आवाज उठाते हुए शिकायत दर्ज करवाई है।

जान बचाने के लिए इस देश में मुस्लिमों को खाना पड़ता है सूअर का मांस, हो रही बड़ी क्रूरता

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *