जानें पीरियड्स के दौरान दौड़ना-कूदना सेहत के लिए कितना सुरक्षित है, लेकिन इन बातों का रखें खास ख्याल

ये जानना बहुत अहम है कि पीरियड्स के दौरान दौड़ना कितना सुरक्षित और कितना असुरक्षित होता है

पीरियड्स का माह स्त्रियों के लिए सबसे दर्दभरे महीनों में से एक माना जाता है। पीरियड्स के दौरान कई महिलाएं खुद को एक कमरे में बंद कर लेती हैं। उन्हें लगता है कि अगर वे इस दौरान अधिक दौड़ती हैं तो इससे मासिक धर्म के दौरान दर्द बढ़ सकता है।

running on periods

हालांकि यह एक मिथक है, किंतु इसके बारे में हकीकत जानना जरूरी है। पीरियड्स के दौरान महिलाओं को अक्सर पेट में ऐंठन, पेट दर्द, थकान आदि परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

ऐसे में ये जानना बहुत अहम है कि पीरियड्स के दौरान दौड़ना कितना सुरक्षित और कितना असुरक्षित होता है। आज हम आपको बताएंगे कि मासिक धर्म के दौरान दौड़ने से सेहत को क्या-क्या फायदे होते हैं। साथ ही इस दौरान बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में भी जानेंगे। पीरियड्स के दौरान दौड़ने से क्या स्वास्थ्य लाभ होते हैं, साथ ही दौड़ते वक्त क्या सावधानियां बरतनी चाहिए।

क्या पीरियड्स के दौरान दौड़ना सेहत के लिए सही है या गलत?

पीरियड्स के दौरान रनिंग की जा सकती है। बता दें कि दौड़ना शारीरिक गतिविधि का हिस्सा माना जाता है। इससे जुड़ा एक शोध भी सामने आया है। जिसके अनुसार मासिक धर्म के दौरान फीजिकल गतिविधियां की जा सकती हैं। आपको बता दें कि इसके जरिए मासिक धर्म की दिक्कत को दूर किया जा सकता है।

इन बातों का रखें खास ख्याल

  • आपको बता दें कि पीरियड्स के दौरान निरंतर दौड़ने से बचें।
  • डिहाइड्रेशन की स्थिति में दौड़ें नहीं।
  • पीरियड्स के दौरान ज्यादा तेज न दौड़ें। बल्कि अपनी गति सामान्य रखें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close