निजीकरण को लेकर पीएम मोदी का बड़ा बयान, कहा- सरकारी नियंत्रण खत्म करेंगे लेकिन॰॰॰

प्राइम मिस्टर मोदी ने आगे कहा कि अंतरिक्ष और उपग्रह से जुड़ी कंपनियां इस एसोसिएशन की सदस्य होंगी

भारतीय पीएम ने सोमवार को भारतीय अंतरिक्ष संघ (ISPA) की शुरूवात की। इससे भारत के स्पेस प्रोग्राम को एक नई ऊंचाई मिलेगी और आत्‍मनिर्भर भारत की परिकल्‍पना भी सफल होगी। यही नहीं ये स्पेस के क्षेत्र में हिंदुस्तान को अग्रणी खिलाड़ी के रूप में स्थापित करने में सहायता करेगा।

pm modi

प्राइम मिनिस्टर मोदी ने आगे कहा कि अंतरिक्ष और उपग्रह से जुड़ी कंपनियां इस एसोसिएशन की सदस्य होंगी। इस मौके पर उन्होंने इसके गठन के लिए साइंटिस्टों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि हमारा स्पेस सेक्टर, 130 करोड़ भारत वासियों की प्रगति का एक बड़ा माध्यम है।

जहां जरूरत नहीं वहां सरकारी नियंत्रण खत्म- पीएम मोदी

प्राइम मिनिस्टर मोदी ने कहा कि हमारे लिए अंतरिक्ष संघ यानी, सामान्य मानवी के लिए शानदार मैपिंग, इमेजिंग और कनेक्टिविटी की फैसिलिटी! हमारे लिए स्पेस सेक्टर यानी, एंटरप्रेन्योर्स के लिए शिपमेंट से लेकर डिलीवरी तक बेहतर स्पीड। पीएम मोदी ने कहा कि एयर इंडिया पर सरकार ने लिया बड़ा फैसला लिया है। उन्होंने कहा कि जहां जरूरत नहीं वहां सरकारी नियंत्रण खत्म करेंगे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत में अपार क्षमता और संभावना हैं। एफिशिएंसी की ब्रांड वैल्‍यू को हमें और निखारना होगा। इसको निरंतर प्रमोट करना होगा। अपने दम पर जब हिंदुस्तान आगे बढ़ेगा तो वैश्विक स्‍तर पर हिंदुस्तान आगे बढ़ेगा। इस काम में सरकार हर कदम पर आपके साथ खड़ी है।

प्राइम मिनिस्टर मोदी ने आगे कहा कि सरकार सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यम को लेकर एक स्पष्ट नीति के साथ आगे बढ़ रही है और जहां सरकार की आवश्यकता नहीं है, ऐसे ज्यादातर सेक्टर्स को प्राइवेट एंटरप्राइजेज के लिए खोल रही है। सरकार ने जो अभी एयर इंडिया से जुड़ा फैसला लिया गया है वो हमारी प्रतिबद्धता और गंभीरता को दिखाता है।

प्राइम मिनिस्टर मोदी ने कहा कि 21वीं सदी का  हिंदुस्तान आज जिस अप्रोच के साथ आगे बढ़ रहा है, जो रिफॉर्म कर रहा है उसका आधार है, भारत के सामर्थ्य पर अटूट विश्वास। इस सामर्थ्य के आगे आने वाली हर रुकावट को दूर करना हमारी सरकार का दायित्व है और इसके लिए सरकार कोई कोर कसर नहीं छोड़ रही है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *