राहुल का केंद्र सरकार पर तंज, कहा- ‘सरकारी कंपनी बेचने की मुहिम चला रहे मोदी जी’

राहुल गांधी घटती जीडीपी, अर्थव्यवस्था और कोरोना वायरस के हालात को लेकर लगातार केंद्र सरकार पर हमलावर रहे हैं।

नई दिल्ली॥ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष एवं वायनाड से सांसद राहुल गांधी घटती जीडीपी, अर्थव्यवस्था और कोरोना वायरस के हालात को लेकर लगातार केंद्र सरकार पर हमलावर रहे हैं। ऐसे में उन्होंने एक बार फिर नीतियों को लेकर सरकार की आलोचना की है। उन्होंने कहा कि जीवन बीमा निगम (एलआईसी) को बेचना मोदी सरकार का शर्मनाक प्रयास है। ऐसा लगता है वो सरकारी कंपनी बेचने की मुहिम चला रहे हैं।

Rahul

राहुल गांधी ने सरकारी संस्थाओं के निजीकरण को लेकर सरकार पर मंगलवार को निशाना साधते हुए ट्वीट कर कहा, “मोदी जी ‘सरकारी कंपनी बेचो’ मुहिम चला रहे हैं। खुद की बनाई आर्थिक बेहाली की भरपाई के लिए देश की संपत्ति को थोड़ा-थोड़ा करके बेचा जा रहा है। जनता के भविष्य और भरोसे को ताक पर रखकर एलआईसी को बेचना मोदी सरकार का एक और शर्मनाक प्रयास है।”

अपने ट्वीट के साथ कांग्रेस सांसद ने एक खबर भी साझा किया है, जिसमें कहा गया है कि केंद्र सरकार एलआईसी में 25 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचेगी। इसे बेचने को लेकर ड्राफ्ट भी तैयार हो चुका है, जिसे सेबी, इरडा तथा नीति आयोग एवं अन्य मंत्रालयों को भेज भी दिया गया है।

वहीं सरकारी उपक्रम के शेयर बेचे जाने पर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, “एलआईसी कंपनी नहीं बल्कि करोड़ों लोगों का भरोसा है। सामाजिक सुरक्षा कवच है। बच्चों की पढ़ाई, शादी, बुढ़ापे के लिए लोग एलआईसी में इसलिए पैसे जमा करते हैं क्योंकि उन्हें भरोसा है कि इसके साथ सरकारी गारंटी जुड़ी है। अब लोगों के मन में सवाल है कि उनकी जिंदगी भर की जमा-पूंजी का क्या होगा?”

पवन खेड़ा ने भी राहुल गांधी के ट्वीट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भाजपा सरकार और उनके समर्थकों को आड़े हांथों लिया। उन्होंने कहा कि अगर कोई 70 साल का हिसाब मांगे तो उसे बताना चाहिए कि यह तमाम कम्पनियां जो मोदी जी बेच रहे हैं, यह पिछले 70 सालों में इस देश की मेहनतकश जनता और सरकारों ने बनाई। हालांकि आज की सरकार पूर्वजों द्वारा अर्जित सम्पत्ति को बेच भी रही है और उनका अपमान भी करने में लगी है, जो सही नहीं है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *