Shivpal Singh Yadav का छलका दर्द, कहा- जिसे चलना सिखाया, अब वहीं हमें रौंदता है

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से नाराजगी की खबरों के बीच प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) के अध्यक्ष शिवपाल यादव का...

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से नाराजगी की खबरों के बीच प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) के अध्यक्ष शिवपाल यादव (Shivpal Singh Yadav) का दर्द एक बार फिर छलका है। प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल यादव ने ईद पर मुबारकबाद देते हुए अपने ट्वीटर हैंडल पर लिखा ‘हमने जिसे चलना सिखाया और वो हमें रौंदते चला गया, हालांकि उन्होंने अपने ट्वीट में किसी का नाम नहीं लिखा है लेकिन कयास लगाया जा रहा है की उनका ये इशारा भतीजे अखिलेश यादव की तरफ है।

Shivpal Singh Yadav

विस चुनाव में साथ आए थे साथ

गौरतलब है की शिवपाल यादव (Shivpal Singh Yadav) ने अपने भतीजे अखिलेश यादव से नाराज होकर साल 2018 में एक नई पार्टी प्रसपा का गठन कर लिया था लेकिन उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में शिवपाल यादव ने अखिलेश यादव के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था। शिवपाल यादव समाजवादी पार्टी के टिकट पर जसवंतनगर सीट से विधानसभा चुनाव मैदान में उतरे थे। हालांकि, उन्होंने अपनी पार्टी का विलय सपा में नहीं किया था।

चाचा भतीजे में फिर बढ़ी दूरी

वहीं, चुनाव नतीजों में सपा को मिली करारी हार के बाद अखिलेश यादव (Shivpal Singh Yadav) और शिवपाल यादव में एक बार फिर दूरियां बढ़े गई हैं। इसी बीच कई बार ये भी कयास लगाए गए की शिवपाल यादव बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। ये कयास इस वजह से लगाए गए क्योंकि शिवपाल यादव ने सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की थी। वहीं बताय के रहा है कि शिवपाल यादव की बीजेपी में शामिल होने को लेकर बात नहीं बन पाई।

उधर, शिवपाल यादव (Shivpal Singh Yadav) के भाजपा में शामिल होने की अफवाहों के बीच पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने भी अपने चाचा पर निशाना साधा था। अखिलेश यादव ने कहा था कि शिवपाल विपक्षी पार्टी के संपर्क में हैं। अखिलेश के इस बयान पर पलटवार करते हुए चाचा शिवपाल ने कहा था कि हमारे नेता (अखिलेश यादव) को लगता है कि मैं उनके (बीजेपी) साथ नहीं हूं तो मुझे तुरंत पार्टी से बाहर कर दें।

इस राज्य में है रहस्यमयी सोने का भंडार, अगर खुल गया दरवाजा तो सबसे अमीर हो जायेगा भारत