5AC423FB902F99F7B04A6C0E44CE75FA

2021 की जनगणना को लेकर मोदी सरकार की मंशा पर यादव महासभा ने उठाये सवाल, कहा ओबीसी को अधिकारों से वंचित करने की साजिश!

लखनऊ, 15 फरवरी, अखिल भारतवर्षीय यादव महासभा के प्रदेश अध्यक्ष जगदेव सिंह यादव ने कहा है कि किसी भी वर्ग के साथ होने वाले अन्याय व उत्पीड़न के विरूध संघर्ष करने वाला यादव समाज आज उत्तर प्रदेश मे स्वयं अन्याय, भेदभाव व उत्पीड़न का शिकार है। इस दौरान आम जन समस्याओं पर चिंतन भी जाहिर की गई.


आपको बता दें कि लखनऊ स्थित यादव महासभा के प्रदेश कार्यालय मे आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होने बताया कि यूपी में यादव समाज के लोगों के उत्पीड़न व हत्याओं का दौर जारी है। पूरे प्रदेश मे यादव समाज के अधिकारी, कर्मचारी, व्यापारी, अधिवक्ता, जन प्रतिनिधि अन्याय, भेदभाव व उत्पीड़न से त्रस्त हैं लेकिन सरकार मूकदर्शक बनी हुयी है।

वहीं प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि लोकसभा चुनाव परिणामों की घोषणा के बाद से ही ये सिलसिला शुरू हो गया था। आगरा मे कोर्ट परिसर में उत्तर प्रदेश बार काउंसिल अध्‍यक्ष दरवेश यादव की गोली मारकर हत्या कर दी गई। झांसी मे युवा व्यवसायी पुष्पेंद्र यादव से पैसै वसूली को लेकर झगड़े के बाद खनन माफिया बताकर पुलिस द्वारा हत्या कर दी गई।

उन्होंने ने आगे कहा कि पीड़ित परिवार की एफआईआर तक दर्ज नही की गई और नहीं दोषियों के खिलाफ समुचित कार्रवाई की गई। नोयडा मे युवा जिम ट्रेनर जितेंद्र यादव को फर्जी एंकाउंटर मे गोली मारी गई। यूपी मे अबतक सौ से अधिक यादवों की हत्यायें हो चुकीं है। एक वर्ष होने को है लेकिन ये सिलसिला बदस्तूर जारी है।

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा जनसंख्या व भागीदारी के आधार पर आरक्षण दिये जाने के निर्देशों के बावजूद होने वाली जनगणना मे केंद्र सरकार मात्र ओबीसी की गिनती नही करवायी जा रही है। यादव महासभा केंद्र सरकार से जातिवार जनगणना की मांग करती है जिससे उपलब्ध आंकड़ों के आधार पर सभी दलित ,पिछड़ी व आदिवासी जातियों को आबादी के अनुपात मे आरक्षण मिल सके।

जगदेव सिंह यादव ने कहा कि यादव समाज सहित पिछड़े, दलित व आदिवासी वर्ग के तरक्की के अवसरों को बीजेपी सरकार द्वारा योजनाबद्ध तरीके से समाप्त किया जा रहा है। यादव महासभा के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग मे ओबीसी, एससी व एसटी को संविधान प्रदत्त आरक्षण सरकार द्वारा नही दिया जा रहा है। ओबीसी, एससी व एसटी को अनारक्षित पदों मे शामिल न कर उनके साथ बड़ा अन्याय व षणयंत्र किया जा रहा है।

जगदेव ने आगे कहा कि साथ ही राम मंदिर निर्माण हेतु गठित ट्रस्ट मे केंद्र की मोदी सरकार द्वारा ओबीसी का एक भी सदस्य न रखा जाना, यह दर्शाता है कि बीजेपी सिर्फ अन्य पिछड़े वर्ग के लोगों का वोट लेना और आंदोलनों मे उनका उपयोग करना चाहती है। वह ओबीसी को सत्ता मे भागीदारी और मान सम्मान नही देना चाहती है और नाही उनके कल्याण के लिये कार्य करना चाहती है।

उन्होने कहा कि जबकि हकीकत ये है कि राम मंदिर आंदोलन की लड़ाई मे पिछड़े वर्ग के नेताओं विनय कटियार, पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह, पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती का अहम योगदान रहा है। साथ ही राम मंदिर आंदोलन मे अग्रणी पंक्ति मे शहीद होने वाला युवक राजेंद्र, यादव समाज से था। लेकिन इसके बावजूद राम मंदिर निर्माण हेतु गठित ट्रस्ट मे यादवों या पिछड़ों का एक भी सदस्य नही रखा गया, जबकि ट्रस्ट मे एक ही जाति के सात सदस्य तक हैं।

इसके साथ ही प्रदेश अध्यक्ष ने बताया कि उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग मे ऊचित आरक्षण न दिये जाने तथा राम मंदिर निर्माण हेतु गठित ट्रस्ट मे यादव समाज और अन्य पिछड़े वर्ग का प्रतिनिधित्व न होने को लेकर यादव महासभा द्वारा 11 फरवरी को जिला, नगर व मंडल अध्यक्षों की बैठक मे सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित हुआ। महासभा इस संबंध मे राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, यूपी के राज्यपाल व मुख्यमंत्री को पत्र द्वारा शीघ्र कार्रवाही करने का अनुरोध करेगी। शीघ्र सुनवाई न होने की स्थिति मे यादव महासभा आंदोलन के लिये बाध्य होगी।

वहीं यादव महासभा के प्रदेश अध्यक्ष जगदेव सिंह यादव ने उत्तर प्रदेश यादव महासभा के संगठन को प्रभावी एवं गतिशील बनाने हेतु तथा यादव समाज के सामाजिक, राजनीतिक, शैक्षिक एवं व्यावसायिक उत्थान के लिए संगठनात्मक ढांचे को सुदृढ़ एवं प्रभावी बनाने के लिए आज प्रदेश पदाधिकारियों के साथ-साथ नगर, जिला व मंडल अध्यक्षों के मनोनयन की सूची जारी की है। जारी सूची के अनुसार, प्रदेश अध्यक्ष ने 6 नगर, 65 जिला व 18 मंडल अध्यक्षों के नामों की आज घोषणा की है।
वहीं जगदेव सिंह यादव ने कहा कि अखिल भारतवर्षीय यादव महासभा, उत्तर प्रदेश पूरी तरह यादव समाज के उत्थान के लिए कटिबद्ध है। यूपी मे हर यादव को महासभा से जोड़ने का बड़ा लक्ष्य रखा गया है। उन्होने बताया कि नवनियुक्त अध्यक्ष अपने- अपने क्षेत्रों मे अधिक से अधिक सदस्य बनाकर कार्यकारिणी का गठन करेंगे।

बता दें कि इसी के साथ सभी को यादव समाज के कल्याण हेतु शुरू किये जारहे कार्यों के संबंध मे भी महत्वपूर्ण निर्देश दिये गयें हैं। उन्होने बताया कि नगर, जिला वह मंडल अध्यक्षों की अगली बैठक मार्च 2020 को प्रदेश कार्यालय लखनऊ में होगी , जिसमें नवनियुक्त अध्यक्षों को सौंपे गये महत्वपूर्ण कार्यों की समीक्षा की जाएगी।

आपको बता दें कि इस प्रेस वार्ता मे, प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व मंत्री जगदेव सिंह यादव के अलावा प्रदेश महासचिव सी एल यादव, प्रदेश उपाध्यक्ष लाल बहादुर सिंह, मुख्य प्रवक्ता व मीडिया प्रकोष्ठ के अध्यक्ष अनुराग यादव, पूर्व पार्षद दिनेश यादव आदि उपस्थित रहे।

दिल्ली के बाद इन 2 राज्यों में चुनाव जीतने की तैयारी में जुटे केजरीवाल, अपनाएंगे वहीं मॉडल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com