बारिश से बेहाल हुआ यह राज्य, 1,171 गांवों में भरा पानी, जानें कितने लोग हुए बेघर

मध्यप्रदेश में कई दिनों से लगातार हो रही भारी बारिश ने तबाही मचा रखी है। प्रदेश के चार जिलों बुरी तरह से प्रभावित हो चुके हैं। तमाम लोगों ...

मध्यप्रदेश। मध्यप्रदेश में कई दिनों से लगातार हो रही भारी बारिश ने तबाही मचा रखी है। प्रदेश के चार जिलों बुरी तरह से प्रभावित हो चुके हैं। तमाम लोगों के घरों में पानी भर गया है। यहाँ के लोगों का जन जीवन पूरी तरह से अस्त व्यस्त हो गया है। इस बीच बाढ़ प्रभावित शिवपुरी में फंसे तीन लोगों को बचा लिया गया है जबकि अन्य पांच के लिए बचाव अभियान जारी है।

MP FLOOD

हालंकि इस बीच बाढ़ के हालातों से निपटने के लिए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अधिकारियों की आपात बैठक की। सीएम ने अफसरों को बाढ़ से निपटने के सख्त निर्देश दिए। बता दें कि प्रदेश के शिवपुरी, श्योपुर, ग्वालियर और दतिया में कई दिनों से लगातार हो रही बारिश हो रही है जिससे लगभग 1,171 गांव बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। शिवपुरी में 200 से ज्यादा गांव जलमग्न हो गए हैं। हालांकि इस दौरान प्रशासन द्वारा चलाये जा रहे बचाव अभियान में 22 गांव से अनेक लोगों को बाहर निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।

दरअसल मौसम खराब होने की वजह से शिवपुरी में बचाव अभियान में कुछ दिक्कतें आ रही है। राज्य के अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) राजेश राजोरा ने बताया कि शिवपुरी, श्योपुर, ग्वालियर और दतिया जिलों में बचाव कार्य के लिए सेना को बुलाया गया है। वहीं, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर पल की जानकारी ले रहे हैं और राज्य को हर संभव मदद का भरोसा दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) और एसडीआरएफ की टीमों द्वारा अब तक 1,600 लोगों को बचाया जा चुका है जबकि 200 गांव अभी भी बाढ़ की चपेट में हैं।

प्रभावित क्षेत्रों से लोगों को बचाने के लिए नावों का इस्तेमाल किया जा रहा है। गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में पिछले एक महीने से भारी बारिश के चलते होशंगाबाद सहित मध्यप्रदेश के कई जिले बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। प्रदेश में स्थिति इतनी विकराल हो गई थी कि जलमग्न क्षेत्रों से लोगों को बचाने के लिए शनिवार को सेना और एनडीआरएफ को उतारा गया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *