बांग्लादेश की सांप्रदायिक हिंसा पर अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र ने क्या कहा !

अमेरिका ने बांग्लादेश में अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय के लोगों पर हाल में हुए हमलों की घटनाओं की निंदा की है।

वाशिंगटन : अमेरिका ने बांग्लादेश में अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय के लोगों पर हाल में हुए हमलों की घटनाओं की निंदा की है। विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा कि धर्म चुनने की आजादी, मानवाधिकार है। दुनिया का प्रत्येक व्यक्ति, फिर चाहे वह किसी भी धर्म या आस्था को मानने वाला हो, उसका अपने अहम पर्व मनाने के लिए सुरक्षित महसूस करना जरूरी है।

America Bangladesh

प्रवक्ता ने कहा, ‘विदेश मंत्रालय, बांग्लादेश में अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय के लोगों पर हाल में हुए हमलों की घटनाओं की निंदा करता है।बांग्लादेश में हिंदुओं पर बढ़ते हमले को लेकर संयुक्त राष्ट्र ने भी चिंता जताई है। संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि बांग्लादेश में अल्पसंख्यक हिंदुओं पर हमले उसके संविधान में निहित मूल्यों के खिलाफ हैं और प्रधानमंत्री शेख हसीना की सरकार को घटनाओं की निष्पक्ष जांच सुनिश्चित करने की जरूरत है।

बांग्लादेश में संयुक्त राष्ट्र के रेजिडेंट कोऑर्डिनेटर मिया सेप्पो कहा है कि बांग्लादेश में हिंदुओं पर हालिया हमले संविधान के मूल्यों के खिलाफ हैं और इसे रोकने की जरूरत है। हम सरकार से अल्पसंख्यकों की सुरक्षा और निष्पक्ष जांच सुनिश्चित करने का आह्वान करते हैं। हम सभी से समावेशी सहिष्णु बांग्लादेश को मजबूत करने के लिए हाथ मिलाने का आह्वान करते हैं।

बांग्लादेश में अफवाह के बाद भड़की हिंसा में अब तक छह लोग मारे जा चुके हैं। पुलिस के मुताबिक, पीरगंज में हिंदुओं के कम से कम 66 घर आग के हवाले कर दिए गए। गृहमंत्री असदुज्जमां खान कमाल ने जानकारी देते हुए बताया कि हिंदुओं के घर जलाने वाले दोषियों की पहचान की गई और 45 से ज्यादा संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया है। जबकि, अब तक 71 से ज्यादा केस में 450 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *